शुजालपुर। जामनेर निवासी आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. एसए मीर का शव 28 दिसंबर को अपने ही घर के पास उस्मान खां के खेत में मिला था। पुलिस को इस दौरान उनकी कार से एक सुसाइड़ नोट भी मिला था, जिसमें उन्होने अपनी मौत का कारण 21 पेज की डायरी में लिखा होना बताया था। पुलिस ने मर्ग कायम कर डायरी जब्त करने के बाद जांच प्रारंभ की तो उसमें प्रथम दृष्टया ग्राम मुगोद निवासी रितिक परमार व उसकी मां शेरकुंवर बाई का नाम सामने आने पर पुलिस ने दोनो के खिलाफ खुदकुशी के लिए प्रेरित करने का मामला दर्ज किया है।

मंडी पुलिस थाना प्रभारी संतोष कुमार वाघेला से मिली जानकारी अनुसार ड़ॉ एसए मीर के परिजनों द्वारा 28 दिसंबर की रात आठ बजे डा के लापाता होने की शिकायत मंडी थाना में दर्ज कराई थी। इस पर पुलिस द्वारा डा की तलाश परिजनों व ग्राम वासियों के साथ मिलकर की गई, तो डा का शव उनके घर के पास एक खेत से मिला व उनकी कार जिससे वह अपने परिजनों से आष्टा का कहकर घर से निकले थे, वह कार भी घर के सामने खड़ी मिली। कार के डेश बोर्ड के ऊपर एक पत्र मिला था, जिसमें स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ था कि मेरी संपूर्ण जानकारी मेरे पॉकेट में रखी 21 पेज की डायरी में लिखी है। पुलिस ने संदिग्ध अवस्था में मिले शव का पंचनामा आदि बनाकर मिले पत्र के अनुसार डायरी को मृतक ने पहन रखे कपड़ों से जब्त की गई। डायरी से यह खुलासा हुआ कि मृतक के व्यवसायिक संबंध पहले से ही लेब संचालक रितिक परमार से रहे है और उनका आना जाना उसके घर था। किसी बात को लेकर आरोपियो द्वारा मृतक को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा था। इससे परेशान होकर डा मीर ने खुदकुशी की। इस पर पुलिस ने मां व बेटे के खिलाफ धारा 306, 34 में प्रकरण पंजीबद्ध कर जांच में लिया है।

अभी प्रकरण कायम किया है आगे ड़ायरी में लिखे अक्षरों का मिलान कराया जाएगा तथा मौके पर मिले पत्र का सत्यापन व अन्य जांच होने के बाद ही सही जानकारी दी जा सकेगी।

-विजय शंकर द्विवेदी एसडीओपी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local