सीहोर। जिले में इस बार जून माह में तो हल्की वर्षा दर्ज की गई थी, लेकिन जुलाई माह के शुरुआत से ही झमाझम वर्षा हो रही है। इसका नतीजा है कि अभी तक 37 इंच से अधिक वर्षा दर्ज की जा चुकी है, जो वर्षा से 11 इंच दूर है। जबकि एक माह का समय अभी वर्षा का शेष है। लगातार हुई वर्षा से जहां अधिकांश जलाशय लबालब हो चुके हैं, वहीं वर्षा का पानी खेतों में भी भरा हुआ नजर आ रहा है। ऐसे में फसल पर भी विपरीत असर पड़ने का डर किसानों को सता रहा है, वहीं लगातार वर्षा होने से सोयाबीन के फूल गलने की भी संभावना बन रही है, जिससे सोयाबीन में अफलन की स्थिति को लेकर किसान घबराया हुआ है।

इस बार हुई झमाझम बर्षा से आष्टा क्षेत्र को छोड़कर जिले के 66 में 43 तालाब समय से पहले भर चुके हैं। जबकि पिछले तीन दिन से आष्टा क्षेत्र में हो रही वर्षा से वहां भी नदी-नाले उफान पर है और अधिकतर जलाशय भी भरना शुरू हो गए हैं। इससे आने वाले समय में जलसंकट से लोगों को नहीं जूझना पड़ोगा। इधर वर्षा शुरू होते ही 75 प्रतिशत बोवनी समय से होने के कारण सोयाबीन फूल पर है, जिससे अब मौसम साफ होने के दरकार बनी हुई है। यदि आगामी समय में वर्षा नहीं रुकती है, जो पौधों की ग्रोथ रुकने के साथ ही फसल प्रभावित होने का खतरा भी मंडरा रहा है। हालांकि मौसम विभाग की माने तो अभी तेज वर्षा की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

पिछले वर्ष अब तक हुई थी 23 इंच वर्षा

जिले में एक जून से 11 अगस्त तक 932.2 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में वर्षा 591.6 मिलीमीटर थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार एक जून से 11 अगस्त तक जिले के वर्षामापी केंद्र सीहोर में 886.8 मिलीमीटर, श्यामपुर में 889.0, आष्टा में 830.2, जावर में 725.0, इछावर में 943.3, नसरुल्लागंज में 920.4, बुदनी में 970.0 और रेहटी में 1292.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले में बीते 24 घंटे में सुबह आठ बजे तक 54.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केंद्र सीहोर में 39.2 मिलीमीटर, श्यामपुर में 38.0, आष्टा में 68.0, जावर में 127.0, इछावर में 15.0, नसरुल्लागंज में 37.0, बुदनी में 30.0 एवं रेहटी में 82.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close