फोटो 17 आष्टा। सिंधी समाज के लोग यात्रा का स्वागत करते हुए। नवदुनिया

आष्टा। नवदुनिया न्यूज

अंतरराष्ट्रीय जागृति यात्रा देश के कई शहरों से होकर मां पार्वती की नगरी आष्टा में हाईवे बायपास पर पहुंची। यात्रा का सिंधी समाज व सिख समाज के प्रमुख ने अगवानी कर स्वागत कि या गया। सिख समुदाय के पहले गुरु गुरुनानक देव जी के 550 वें प्रकाश उत्सव के मौके पर उनके जन्म स्थान ननकाना साहब (पाकि स्तान) से निकली अंतरराष्ट्रीय जाग्रति यात्रा आष्टा पहुंची। जिसमें शहर के सिंधी व सिख समुदाय के लोगों ने यात्रा का जोरदार स्वागत कि या।

यात्रा को लेकर सिंधी व सिख समुदाय के लोगों में विशेष उत्साह नजर आ रहा था। शोभायात्रा के माध्यम से सिंधी व सिख धर्मावलंबियों ने गुरुनानक देव जी से जुड़े अमूल्य दुर्लभ ग्रंथ धरोहरों का स्वागत व दर्शन कि या। यात्रा जैसे ही नगर के हाईवे पर पहुंची तो लोगों ने पटाखा फोड़कर व पुष्प वर्षा कर स्वागत कि या। शोभायात्रा में एक दर्जन से अधिक वाहन शामिल थे। जिस वाहन में गुरु ग्रंथ साहब विराजमान थे, उसे चारों ओर से फू लों से जाया गया था। वाहन के अंदर गुरु ग्रंथ साहब विराजमान थे। जिसमें पाकि स्तान के ननकाना से आए गुरु ग्रंथ साहब की सेवा में जुटे थे और दर्शन करने वाले लोगों को प्रसाद का वितरण कर रहे थे। वाहन के सबसे आगे पंच प्यारे खड़े थे। इस मौके पर रितु कि शन भोजवानी व नवदीप परमजीत सिंह कौर ने कहा कि पाकि स्तान के ननकाना साहब से चलकर शोभायात्रा का आष्टा पहुंचना हमारे लिए ऐतिहासिक दिन के समान हैं। उन्होंने कहा कि गुरुनानक देव जी का 550वां प्रकाश उत्सव देख पाना हम सभी के लिए सौभाग्य व गर्व की बात है। इससे पूर्व सिंधी व सिख धर्मावलंबियों ने शोभायात्रा का पूरे उत्साह व गर्मजोशी के साथ फू ल बरसा कर स्वागत कि या। सिख श्रद्धालुओं के जत्थे में शामिल सुखवेंद्र सिंह, नीतू कौर ने बताया कि यह जत्था आने वाली कार्तिक पूर्णिमा को श्री गुरुनानक देवजी का 550वां प्रकाश पर्व है। इसलिए भी सिखों के लिए इसका विशेष महत्व है। यह जत्था 1 अगस्त से करतारपुर पाकि स्तान से निकला था। गुरु ग्रंथ साहब के दर्शनों के लिए काफी संख्या में लोग मौजूद थे।