आष्टा (नवदुनिया न्यूज)। सूर्य उपासना का पर्व मकर संक्रांति इस साल भी 14 के साथ ही 15 जनवरी को दो दिन मनाया जाएगी। भगवान सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर परंपरागत रूप से इस पर्व को 14 जनवरी को ही मनाया जाता है, लेकिन इस बार सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 जनवरी की रात 8 बजकर 57 मिनट पर होगा। इसलिए इसका विशेष पुण्यकाल 15 जनवरी को 12 बजकर 38 मिनट तक माना जाएगा। मकर संक्रांति से सूर्य की उत्तरायण यात्रा शुरू होती है। इस पर्व पर लोगों ने जहां पतंग उड़ाई, गुल्ली डंडा खेला, वहीं श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन दिव्योदय अतिशय तीर्थ क्षेत्र किला मंदिर पर बड़जात्य परिवार ने संगीतमय शांति विधान कर दिवंगत निर्मल कुमार बड़जात्या सहित सभी दिवंगतों तथा पूरे विश्व में शांति, सद्भावना की कामना करते हुए मनोज, मनीष, मुकेश बड़जात्या व परिजन ने अर्घ्य चढ़ाया।

नगर पुरोहित पंडित मनीष पाठक ने बताया कि मकर संक्रांति पर तिल का सेवन, तर्पण और दान सहित सात प्रकार से उपयोग करने की शास्त्रीय मान्यता भी है। मकर संक्रांति पर मलमास का समापन होने से सभी शुभ और मंगल कार्य भी शुरू हो जाते हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित डॉक्टर दीपेश पाठक के अनुसार उत्तरायण में सूर्य का प्रकाश व ऊर्जा उत्तर दिशा से आती है। उत्तर देवताओं की दिशा होने से दैवीय तत्वों की सक्रियता बढ़ती जाती है। ऐसे में शुभ और मंगल कार्य सफल होते हैं। इस साल मकर संक्रांति का वाहन व्याघ्र है व इसका उपवाहन अशर है। पीले वस्त्र धारण किए हुए संक्रांति पौष मास शुक्ल पक्ष शुक्रवार को भद्रा तिथि में रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेगी। मेष, सिंह, धनु राशि वालों के लिए शुभ नहीं है, उन्होंने कहा कि पुण्य काल में तीर्थ स्नान, दान, जप हवन आदि करना चाहिए। संक्रांति का पर्व काल 15 जनवरी को सुबह से मध्या- तक रहेगा। पर्व काल में तिल के सात प्रकार के उपयोग का धर्मशास्त्र में उल्लेख है। उबटन, तर्पण, दीपक, हवन, दान, पकवान, भोग। तिल का उबटन व तिल से स्नान करें, तिल से तर्पण करें, तिल के तेल का दीपक लगाएं, तिल से हवन करें, तिल का दान, तिल के पदार्थ भगवान को अर्पण करें, तिल के पकवानों का सेवन करें। खिचड़ी का दान करें, वस्त्रदान का भी विशेष विधान है। संक्रांति पर्व पर शिवलिंग पर दूध, दही, घी का लेपन करके गंगा जल से स्नान कराकर पूजन करने से समस्त प्रकार के रोग दूर होते है।

आसमान में छाई पतंगें

शहर की सबसे पुरानी पतंग दुकान पर बच्चों को लुभाने के लिए मोटू-पतलू, छोटा भीम, हैप्पी न्यू ईयर, जय माता दी , मोदी पतंग सहित कई तरह की पतंगे बाजार में उपलब्ध थी। साथ ही बड़ो के लिए सलमान खान, शाहरूख खान, आलिया, कैटरीना के फोटों वाली पतंगे भी मार्केट में है। विक्रेता कैलाश कुशवाह ने बताया कि खेल में रूचि रखने वाले बच्चों के लिए खिलाड़ियों की फोटो वाली भी पतंगे ब्रिक्री के लिए दुकानों पर उपलब्ध है। उनके अनुसार दो रुपये से 20 रुपये तक की पतंग, 10 से 50 रुपये तक का मांजा व 5 से 50 रुपये तक की कई बैराइटियों का धांगा उपलब्ध है। मकर संक्रांति पर्व पर सबसे शुद्ध मानी जाने वाली मिठाई गुड़-तिल्ली के लड्डू की डिमांड भी अब समय के साथ कम होती जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local