इछावर। जिले के प्रसिद्ध देवस्थान एवं धार्मिक मान्यता अनुसार दुनिया के तीसरे श्री पशुपतिनाथ जी के मंदिर में भगवान पशुपतिनाथ जी का अलौकिक, मनमोहित सिंगार किया गया एवं बाराखंबा देव को छप्पन भोग भी लगाए गए। बाराखंबा देव का सिंगार नेपाल काठमांडू के बाबा पशुपतिनाथ के समकक्ष ही किया गया था परिणाम स्वरूप श्री पशुपति नाथ जी महाराज के सिंगार को लोगों ने खूब पसंद किया एवं आसपास के सभी श्रद्धालु श्री पशुपतिनाथ जी महाराज के दरबार में दर्शन करने के लिए पहुंचे।

इछावर नगर से 15 किलोमीटर दूरी पर स्थित बाराखंबा (देवपुरा नीलबड़) मैं भगवान पशुपतिनाथ जी जोकि जिले के प्रसिद्ध देवस्थानों में से एक है वहां पर आज काकड़खेड़ा माता मंदिर के पुजारी एवं बाराखंबा पशुपति नाथ जी मंदिर के पुजारी ने मिलकर समिति के माध्यम से आज भगवान पशुपतिनाथ जी महाराज के दरबार में भगवान का अलौकिक अनोखा एवं मनमोहित श्रृंगार किया साथ में भगवान श्री कृष्ण एवं राधे रानी का भी सिंगार किया गया। तय कार्यक्रम के अनुसार बाराखंबा देव की विधि विधान से पूजा अर्चना की। तत्पश्चात हवन किया गया एवं भगवान को छप्पन प्रकार की प्रसादी का छप्पन भोग लगाया गया एवं आने वाले श्रद्धालुओं को भंडारे के माध्यम से प्रसादी वितरित दी गई। कार्यक्रम कि सुंदरता देखते हुए कार्यक्रम के कई वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल भी हुए। रविवार का दिन होने की वजह से भी इस अलौकिक श्रृंगार को देखने आसपास के श्रद्धालु बड़ी संख्या में बाबा के दरबार में उपस्थित हुए। गौरतलब है कि बाराखंबा देव श्री पशुपतिनाथ जी महाराज की शिला पर ठंडे मौसम को देखते हुए गर्म कपड़े पहनाकर मुकुट लगाकर मन मोहित करने वाला दृश्य बना दिया गया जिससे कि बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन को पहुंचे । उक्त कार्यक्रम में कैलाश सिंह पटेल, भूरा ठाकुर, घनश्याम जाट का विशेष योगदान रहा।

पशुओं की सलामती के लिए दूध चढ़ाने आते हैं लोगः श्री बाराखंबा देवस्थान पशुओं के सलामती के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है यहां पर बड़ी ही दूर दूर से लोग अपने पशुओं का दूध चढ़ाने श्री बाराखंभा देवस्थान पहुंचते हैं एवं अपने पशुओं की सलामती के लिए दूध चढ़ाते हैं दीपावली के दूसरे दिन यहां पर मध्य प्रदेश का एकदिवसीय सबसे बड़ा मेला लगता है जिसमें दूरदराज से लोग मेले में पहुंचते हैं एवं इस दिन हजारों लीटर दूध भगवान की शिला पर चढ़ाया जाता है।

श्री पशुपतिनाथ जी का प्रसिद्ध विश्व का तीसरा मंदिर है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local