आष्टा। भारत भूमि ही ऐसी भूमि है, यहां के संत ने केवल अपने देश की अपितु विश्व के कल्याण की कामना करते हैं। हमारी भूमि के संत घोष करते हैं। विश्व का कल्याण हो। यह देवभूमि होने का सबसे बड़ा प्रमाण है। मनुष्य जीवन मिला है तो मानवता रखें। मन में करुणा, दया व स्नेह का बोध रखें। यही मानव जीवन की सार्थकता है, जो लोग संत, गुरु, व माता पिता का अनादर करते हैं, उन पर भगवान की कृपा कभी नहीं हो सकती। यदि आप असली मानव हैं तो अपने जीवन में संत, गुरु व माता पिता का अनादर न करें। उनकी सुख शांति के लिए अपने जीवन को समर्पित करें।

साई कॉलोनी में चल रही श्रीमद् भागवत सप्ताह के दौरान व्यासपीठ से कथा वाचक पंडित गीता प्रसाद शर्मा ने कथा का वाचन करते हुए कहीं। कथा के साथ-साथ चल रहे भजनों के माध्यम से भक्त का महत्व बताते हुए कहा भगवान अपने प्रति किए गए अपराध को क्षमा कर देते है लेकिन संत व भक्तों के प्रति किए गए अपराध को कभी क्षमा नहीं करते। भगवान की भक्ति एकाकार भाव से प्राप्त होती है। जो साधक अपने अहंकार को त्याग कर उसे एकाग्र होकर उसे स्मरण करता है। भगवान उसके समीप होते हैं। द्रोपदी के संकट के समय भगवान ने स्वयं उनकी रक्षा की। कथा के दौरान हुए भजनों पर श्रद्धालु जमकर थिरके। भगवान कृष्ण के जन्म का भजन नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की धुन पर सभी अपने आप को थिरकने से नहीं रोक पाए। समिति सदस्यों ने श्रद्धालुओं व बड़ी संख्या उपस्थित महिला भक्तों ने भी झूमकर आनंद लिया। शुभ मुहूर्त शुभ समय में देवकी वाह बाबा के घर बाल रूप में पधारे उधर नंद बाबा के यहां माया ने अवतार लिया योग माया के अनुसार भगवान कृष्ण नंद बाबा के यहां पहुंच गए भगवान कृष्ण का जन्म हुआ जन्म उत्सव बड़े धूमधाम से मनाया गया जन्मोत्सव में लोकप्रिय विधायक सुदेश राय, अरुणा राय व उर्मिला मरेठा, भूतपूर्व विधायक अजीत सिंह सहित श्रीमती साधना प्रेम कुमार राय, श्रीमती सपना कुणाल राय समस्त भक्त जनों के द्वारा बड़े धूमधाम से श्री कृष्ण जन्म उत्सव मनाया गया।

सुख-दुख जीवन में निश्चित है

श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के चौथे दिन कथा वाचक पंडित गीता प्रसाद शर्मा ने गुरुवार को वामन अवतार व भगवान कृष्ण के जन्म की लीला का आनंद कथा के माध्यम से भक्तों को श्रवणपान कराया। भगवान श्री कृष्ण के जन्म की सुंदर झांकी के दर्शन के लिए बड़ी संख्या में महिला भक्तों मौजूद रही। इस कथा में मुख्य यजमान प्रेम कुमार राय धर्मपत्नी साधना राय ने विधि-विधान से पूजन स्थल पर स्थित पीठों सहित व्यास पीठ पर विराजमान राधे कृष्ण की मूर्ति का पूजन किया व भागवत की आरती की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local