सीहोर। शहर में 6 जुलाई को नगर पालिका के चुनाव होने जा रहे हैं। 35 वार्डों में 149 प्रत्याशी मैदान में हैं। सभी अपने अपने तरीके से प्रचार कर रहे हैं। मतदाताओं तक अपनी बात पहुंचा रहे हैं। कोई पंपलेट के माध्यम से तो कोई पोस्टर के माध्यम से अपने वार्ड के वोटरों को लुभाने का प्रयास कर रहा है। ऐसे में बैनर, पोस्टर, वाहन आदि प्रचार सामग्री पर प्रत्येक प्रत्याशी करीब 85 लाख रुपये खर्च कर चुका है। वार्ड के अनुसार खर्च बढ़ता रहता है, लेकिन अब तक सभी प्रत्याशियों तंग हाथ करके चल रहे हैं। हालांकि सोमवार शाम पांच बजे प्रचार पर विराम लग जाएगा।

गौरतलब है कि पार्षद के लिए साढ़े चार लाख रुपये तक खर्च सीमा है। इसलिए उम्मीदवार प्रचार सामग्री से लेकर वाहन में ज्यादा खर्च करने से बच रहे हैं। हालाकि प्रचार सामग्री के अलावा कार्यालय खर्च, साथ में रहने वालों के भोजन पानी का आदि के खर्च इसमें शामिल नहीं हैं। पिछले चुनाव की अपेक्षा इस बार शहर के 35 वार्डों में प्रत्याशियों द्वारा वाहनों से कम ही प्रचार कराया जा रहा है। शहर में कुल 93 वाहन चले हैं, जिनकी अनुमति प्रशासन से ली गई है। प्रति वाहन रोजाना एक हजार रुपये तक खर्च हो रहे हैं। हालाकि चुनाव आयोग की टीम खर्च के हिसाब पर भी नजर रख रही है।

कई उम्मीदवारों ने नहीं चलाए वाहन

नगर में पार्षद पद के उम्मीदवारों को भी इस बार खर्च का हिसाब किताब देना है, इस कारण से कई निर्दलीय प्रत्याशियों ने तो इस बार ज्यादा तामझाम से दूरी बनाए रखी, नगर पालिका सीहोर के लिए 149 उम्मीदवार मैदान में हैं, इसमें से करीब 93 उम्मीदवारों ने प्रचार वाहनों के लिए अनुमति ली है, शेष उम्मीदवार तो घर-घर जाकर मतदाताओं से आर्शीवाद लेने में अधिक भरोसा रख रहे हैं, इस कारण से निकाय चुनावों में जो शोर शराबा रहता है, इस बार वह नहीं देखा जा रहा है।

पदाधिकारियों ने झोंकी ताकत

निकाय चुनाव में जहां कई टिकट नहीं मिलने से बागी हो चुके हैं, जिससे प्रमुख दलों के प्रत्याशियों को भितरघात का डर सता रहा है, वहीं बागी हुए प्रत्याशी मतदाओं को अपने पक्ष में करने के लिए तरह-रतह के हथकंडे अपना रहे है। हालत यह है कि दोनों ही प्रमुख दलों के पदाधिकारी भी वार्डोँ के भ्रमण पर देखे गए है। अपने-अपने समर्थक प्रत्याशियों को चुनाव जिताने के लिए अपील की। इसके साथ ही निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी अपनी पूरी ताकत झौंक दी है।

अब बढ़ी मुश्किल

परिषद का कार्यकाल समाप्त होने के बाद कई पार्षद ऐसे हैं, जो इस बार भी चुनाव मैदान में हैं, लेकिन परिषद का कार्यकाल समाप्त होने के बाद उनका जनता से जुड़ाव नहीं रहा। अब फिर मतदाओं से आशीर्वाद लेने उनके दरवाजे पर दस्तक दे रहे हैं, तो मतदाता भी उन्हें खूब खरी खोटी सुना रहे हैं। हालांकि मतदाता अभी तक सबको अपना आर्शीवाद देने का वादा कर रहे हैं, लेकिन उनके मन में क्या है, यह तो चुनाव परिणाम ही बताएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close