सीहोर। मनुष्य जीवन का उद्धार गुरु के बिना संभव नहीं है। जीव ईश्वर का अंश है। अंश जब तक अंशी में मिल नहीं जाता, तब तक संसार रुपी भव सागर में उसका भटकना निश्चित है। जीव ईश्वर से मिल जाए इसके लिए जीवन में एक सद्गुरु की जरुरत पड़ती है।

उक्त विचार शहर में स्थित श्रीराधा-कृष्ण मंदिर गाड़ी अड्डा में जारी कार्तिक मास प्रवचन के दौरान पंडित मयंक शर्मा ने कहे। रविवार को एक दर्जन से अधिक श्रद्धालुओं ने यहां पर जारी श्रीलक्ष्मी कुबेर यज्ञ में मंत्रों के उच्चारण के साथ आहुतियां दी। वहीं सोमवार को मंदिर में आंवला नवमी के पावन अवसर पर 108 गायत्री मंत्रों के साथ आहुतियां दी जाएगी। गाड़ी अड्डा स्थित श्री राधा कृष्ण महिला मंडल, शिव प्रदोष सेवा समिति और जिला संस्कार मंच के तत्वाधान में कार्तिक मास पर श्रीलक्ष्मी कुबेर लक्ष्मी यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। रविवार को 22 वें दिन करीब 170 श्रद्धालुओं ने अब तक आहुतियां दी है। मंदिर परिसर में आगामी 24 नवंबर से सात दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। जिसमें पहले दिन मंगलवार को तुलसी शालिगराम पूजा सहस्त्र अर्चना, बुधवार को तुलसी शालिगराम पूजा और विवाहोत्सव, गुरुवार को लक्ष्मी कुबेर द्रव्य अर्चना, शुक्रवार को सैकड़ों पार्थिव शिव लिंगों का निर्माण और भगवान शिव का अभिषेक, शनिवार को पुष्प अर्चना, रविवार को को ग्वाल बाल पूजन यमुना अष्टक और 30 नवंबर सोमवार को श्री गोवर्धन पूजन व यज्ञ की पूर्णाहुति और छप्पन भोग की प्रसादी का वितरण भी किया जाएगा। आयोजन की सफलता के लिए सोमवार 23 नवंबर को शाम चार बजे मंदिर में श्री राधा कृष्ण महिला मंडल, शिव प्रदोष सेवा समिति और जिला संस्कार मंच के तत्वाधान एक विशेष बैठक का आयोजन किया जाएगा। बैठक में शामिल होने की अपील करने वालों में पंडित पवन व्यास, मनोहर शर्मा, मनोज दीक्षित, मयंक शर्मा, कुणाल व्यास, पियूश शर्मा, यश शर्मा, जिमांशु शर्मा, सोनू शर्मा, राहुल शर्मा आदि शामिल हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस