सीहोर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। सुबह मुख्य बाजार से निकलने पर सड़के 20 फीट तक चौड़ी दिखाई देते हैं, जिससे आवागमन भी सुगम रहता है, लेकिन बाजार खुलते ही चौड़ी-चौड़ी सड़कें गली में तब्दील होने लगती है। यह हालात बाजार बंद होने तक बने रहते हैं। इस दौरान आवागमन बहुत मुश्किल हो जाता है और कई बार जाम की स्थिति भी बनती है। खास बात यह है कि अधिकतर लोग फुटपाथ व सड़कों पर अतिक्रमण नहीं चाहते हैं, लेकिन दुकानदारों की होड़ व छोटे दुकानदारों को जगह नहीं मिलने से बाजार में यह हालात बन रहे हैं।

ज्ञात हो कि शहर का मुख्य बाजार एक सीमित क्षेत्र में सिमटा हुआ है। जहां शहर व ग्रामीण क्षेत्र के लोग बड़ी संख्या में खरीदी के लिए आते हैं। जिसे स्थाई दुकानदार सहित छोटे दुकान वाले भी अपनी दुकान जहां जगह मिलती है, वहीं स्थापित कर लेते हैं। जिनसे नगर पालिक शुल्क भी वसूलती है, लेकिन उनका स्थाई हल नहीं किया जाता है। जिससे त्योहारी सीजन में हालात बद से बदत्तर हो जाते हैं। आमजन को जाम की स्थिति से जूझना पड़ता है। नगर पालिका की बार-बार कार्रवाई के बाद भी अमले के जाते ही दुकानों फिर सड़कों पर पहुंच जाती हैं। जबकि दुकानदार सहित आमजन बाजार खुला व सड़के चौड़ी चाहते हैं, लेकिन इसके लिए खुद पहल करना नहीं चाहते हैं।

प्रशासन हर त्योहार पर बनाता है प्लान

फुटपाथ व सड़कों पर त्योहारी सीजन बढ़ते ही अतिक्रमण अधिक हो जाता है, जिसकी समस्या दूर करने जनप्रतिनिधि से लेकर नगर पालिका व प्रशासन हर बार प्लान बनाता है, लेकिन धरातल पर नहीं उतर पाता है, जिससे अतिक्रमण हर बार बढ़ता जाता है। सड़के गली का रूप ले लेती हैं। ऐसे में दो पहिया वाहन के प्रवेश करने से निकलने की भी जगह नहीं बचती है। ऐसे में खुद दुकानदार के साथ ही खरीददारों को भी जाम जैसे हालात से जूझना पड़ता है।

महिलाएं होती है अधिक परेशान

फोटो 4 आतिया खान, समाजसेविका

त्योहारी सीजन में महिलाएं सबसे अधिक बाजार में जाती है, लेकिन फुटपाथ सहित सड़क पर दुकानें लगने से निकलने की जगह नहीं रहती है। वहीं कई लोग दुकानों के सामने वाहन खड़े कर देते हैं। जिससे महिलाओं की समस्या को देखते हुए दुकानदारों को दुकान में ही सामग्री बेचनी चाहिए। साथ ही प्रशासन को भी ट्राफिक को ध्यान में रखते ही व्यवस्था करनी चाहिए, जिससे बाजार में अव्यवस्था न हो।

आतिया खान, समाजसेविका

दुकानदार खुद सुधार सकते हैं व्यवस्था

फोटो 2 सीहोर। राकेश राय, प्रदेश सचिव सेवादल कांग्रेस

पुराना शहर है और मुख्य बाजार भी एक ही क्षेत्र में है, जिससे बड़ी संख्या में खरीददारी करने आने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। यदि हर दुकानदार प्रयास करे तो प्रशासन की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। त्योहार का समय है हर दुकानदार लाभ चाहता है, लेकिन उपभोक्ता का ध्यान नहीं रखता है। दुकानदार खुद अपनी सामग्री दुकान के अंदर रखकर बेचे तो समस्या काफी हर तक हल हो सकती है। साथ ही फुटपाथ व सड़क पर दुकान लगाने वालों के लिए स्थाइ व्यवस्था नपा को करनी चाहिए।

राकेश राय, प्रदेश सचिव सेवादल कांग्रेस

नपा व प्रशासन करे व्यवस्था

फोटो 3 सीहोर कमलेश अग्रवाल, अध्यक्ष किराना व्यापारी संघ

दुकानदारों से अपील है कि त्योहारी समय में भीड़ को देखते हुए व कार्रवाई से बचने के लिए अपने दायरे में रहकर दुकान का संचालन करे, जिससे फुटपाथ व सड़क दोनों अतिक्रमण मुक्त रहे। इससे ग्राहकों को परेशानी का सामना न करना पड़े। वहीं नपा व प्रशासन से अपील है कि हाथ ठेलों को बड़ा बाजार या अन्य जगह सिफ्ट करे और दो व चार पहिया वाहनों के लिए पार्किंग की व्यवस्था करे, जिससे हालात सुधर सकें।

कमलेश अग्रवाल, अध्यक्ष किराना व्यापारी संघ

दुकान के बाहर सामान रखने पर होगी कार्रवाई

बाजार में जाकर समय-समय पर दुकानदारों को समझाइश दी जाती है। कई बार चालानी कार्रवाई भी की जाती है। तिरपाल सहित फ्लेक्स बोर्ड आदि भी हटाए जाते है, लेकिन त्योहारी समय पर छोटे दुकानदारों के आने व दुकानों के बाहर सामग्री रखने से व्यवस्था बिगड़ जाती है। दुकानदारों से अपील है कि त्योहार को देखते हुए दुकान के अंदर ही व्यवसाय करे। अन्यथा अभियान चलाकर चालानी कार्रवाई की जाएगी।

प्रकाश परमार, अतिक्रमण प्रभारी नपा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local