-इस माह बिजली कंपनी के बिलों को देखकर उपभोक्ता हैरान, उपभोक्तओं को थमाए भारी भरकम राशि के बिल

फोटो 34 सीहोर। बिजली वितरण कंपनी सीहोर। नवदुनिया

सीहोर। इस माह बिजली कंपनी के बिलों को देखकर उपभोक्ता हैरान और परेशान हैं। बिजली कंपनी ने लोगों को भारी भरकम राशि के बिल थमाए हैं। प्रदेश की वर्तमान कांग्रेस सरकार ने पूर्व भाजपा सरकार द्वारा शुरू की गई सरल बिजली बिल योजना का नाम इंदिरा गृह ज्योति योजना करते हुए इसमें बड़ा फे रबदल कर कर नियमों को बदल दिया। अभी चार माह से 200 रुपए के अंदर बिल आ रहे थे, वहीं इस माह रीडिंग के बिल थमाए गए हैं, जो 1500 से 4500 रुपए तक हैं। ऐसे में जो उपभोक्ता बिजली आफिस में बिल सुधरवाने पहुंच रहे हैं, उन्हें मीटर रीडिंग के आधार पर बिल दिए जाने की बात कहकर वापस लौटाया जा रहा है। इससे परेशान उपभोक्तओं में अब आक्रोश पनप रहा है।

संबल सरल योजना में शामिल हितग्राहियों, जिनके बिल अब तक 200 रुपए प्रति माह आ रहे थे। वह जून माह में हजारों रुपए में पहुंच गए हैं। बढ़े हुए बिजली बिलों को लेकर हितग्राहियों में आक्रोश है। मामले में उपभोक्ताओं का कहना है कि बिजली बिल पहले बहुत कम आता था, लेकि न अब हजारों रुपए के बिल आ रहे हैं। इससे गरीब वर्ग के लोगों को समस्या हो रही है। कांग्रेस सरकार ने योजना के नाम पर उनके साथ धोखा कि या है। इस बारे में बिजली अधिकारियों का कहना है 100 यूनिट से अधिक बिजली खर्च पर सामान्य दर से बिलिंग की जा रही है, उसी के बिल दिए जा रहे हैं।

1500 से 4500 रुपए तक थमा दिया बिल

बिजली कंपनी ने शहर में इस माह का बिल 1500 रुपए से 4500 रुपए तक के दिए हैं। इन बिजली बिलों को देखकर गरीब तबके के लोगों के सामने उसे भरने की चिंता है। यही वजह है कि लोग प्रदेश की कांग्रेस सरकार को कोस रहे हैं। वार्ड 11 के सुरेश ने बताया अभी तक तो उसका बिजली बिल 200 रुपए आता था, जिसे जमा करने में समस्या नहीं थी। जून माह में सीधे 2302 रुपए का बिल थमा दिया। वार्ड 12 के मोतीलाल यादव ने कहा कि उसे भी जून माह का बिल 1777 रुपए का दिया है, जबकि 100 से 150 आ रहा था। यही हाल शहर के सैकड़ों उपभोक्ताओं के हैं। यही कारण है कि अधिक राशि के बिलों को लेकर लोगों में नाराजी है।

सरल योजना खत्म, अब रीडिंग के आए बिल

भाजपा सरकार ने मजदूरों को 200 रुपए प्रति महीना के हिसाब से बिजली देने के लिए सरल संबल योजना लागू की थी, जिसके अनुसार हितग्राहियों को 200 रुपए तक के बिल दिए जा रहे थे, लेकि न अब सरल योजना को इंदिरा गृह ज्योति योजना में समाहित कर दिया है, जिसमें 100 यूनिट तक के 100 रुपए के बिल आएंगे, लेकि न इससे अधिक यूनिट खपत होने पर प्रति यूनिट 6 रुपए के हिसाब से बिल आएगा। खास बात यह है कि अभी तक 200 रुपए में भरपूर बिजली उपभोक्ता खपत कर रहे थे, लेकि न सरल योजना में रीडिंग के हिसाब से बिल आ रहा है। जिसमें चार माह चली सरल योजना की रीडि़ंग भी बिलों में जोड़ दी गई है, जिससे हजारों रुपए में बिल आए हैं।

हितग्राहियों को मिलेगी 491 रुपए की सब्सिडी

प्रदेश सरकार ने योजना में फे रबदल कर इस बार सिर्फ हितग्राहियों को 491 रुपए की सब्सिडी दी है। योजना में आने वाले हितग्राही, जिनकी बिजली खपत 100 यूनिट तक की है, उन्हें 100 रुपए बिजली बिल भरना होगा, जिसकी खपत इससे ज्यादा है, उन्हें 100 यूनिट से अधिक जितनी भी बिजली उपयोग की है, उतनी यूनिट का बिजली बिल वर्तमान टैरिफ के अनुसार देना है। यदि कोई व्यक्ति 200 यूनिट बिजली उपयोग करता है तो उसे पहले 100 यूनिट के लिए 491 की सब्सिडी देकर बाकी की 100 यूनिट का बिल 6 रुपए प्रति यूनिट से दिया जाएगा।

खपत के अनुसार जारी हुए हैं बिल

सरल योजना अब इंदिरा गृह ज्योति योजना में समाहित हो गई है। पिछले माह तक 200 रुपए तक के बिल दिए जा रहे थे, लेकि न अब नई योजना में रीडिंग के अनुसार बिल दिए गए हैं। जिन उपभोक्ताओं को शिकायत है, उनके मीटर की जांच कराई जा रही है, वहीं गड़बड़ी सामने आने पर बिल में सुधार कराया जा रहा है।

एनएस यादव, जेई टाउन सीहोर

Posted By: Nai Dunia News Network