सीहोर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। क्षेत्र के अहमदपुर, दोराहा सहित लसूड़िया समर्थन केंद्र पर किसान नियम विरुद्ध तरीके से अधिक गेहूं लेकर खुलेआम निर्देशों की अवहेलना की जा रही है। समर्थन केंद्र पर गेहूं तुलाने के लिए प्लास्टिक बोरी पर 150 की जगह 500 ग्राम यानि 350 ग्राम अधिक गेहूं तौला जा रहा है, वहीं सैंपल के नाम 100 ग्राम की जगह पर तीन से चार किलो तक गेहूं अधिक लिया जा रहा है, जिससे किसानों में समर्थन पर हो रही तुलाई, ढुलाई व व गेहूं भराई के नाम पर हो रही ठगी को लेकर रोष है।

जानकारी के अनुसार जिले में 192 समर्थन केंद्र बनाए गए हैं, जिस पर लगातार गेहूं की खरीदी की जा रही है, लेकिन केंद्रों पर नियम व निर्देश बेअसर दिखाई दे रहे हैं। क्योंकि 50 किलों की प्लास्टिक बोरी पर 150 ग्राम अधिक गेहूं केंद्र पर तौले जा सकते हैं, लेकिन 50 किलों 500 ग्राम गेहूं तौला जा रहा है, वहीं सैंपल के लिए 100 ग्राम गेहूं लिया जा सकता है, लेकिन 3 से 4 किलों तक गेहूं ज्यादा केंद्र पर लिया जा रहा है, जिससे किसानों में आक्रोश बढ़ रहा है। इतना ही नहीं केंद्र पर तुलाई करने वाला सूपड़ी ले रहा है, जिसमें मनमाना गेहूं भरकर अपनी बोरी में डाल लेता है। इस तरह समर्थन केंद्र पर हो रही गड़बड़ी को लेकर किसानों में रोष बढ़ रहा है। साथ ही इस तरह अधिक गेहूं लेने के इंटरनेट मीडिया पर विडियों पर वायरल हो रहे हैं, जिसमें किसान खुलकर समर्थन केंद्र संचालकों पर आरोप भी लगा रहे हैं।

आंदोलन की दी चेतावनी

भारतीय किसान संघ तहसील महामंत्री प्रेम सिंह दांगी का कहना है कि यदि इस तरह की गेहूं की चोरी नहीं रोकी गई, तो आगामी समय में किसान संघ के नेतृत्व में आंदोलन किया जाएगा। वहीं भगवान सिंह दांगी का कहना है कि ढुलाई, तुलाई और भराई वाले को अलग-अलग गेहूं देना पड़ रहा है। इतना ही नहीं चाय-नाश्ता भी कराना पड़ रहा है। दिलीप सिंह दांगी का कहना है कि एक साथ बड़े कांटे से तुलाई नहीं होने पर इस तरह किसानों से लूट हो रही है। किसानों ने कलेक्टर से मांग की है कि उपार्जन केंद्रों पर किसानों से हो रही लूट को रोका जाए।

आंदोलन की दी चेतावनी

भारतीय किसान संघ तहसील महामंत्री प्रेम सिंह दांगी का कहना है कि यदि इस तरह की गेहूं की चोरी नहीं रोकी गई, तो आगामी समय में किसान संघ के नेतृत्व में आंदोलन किया जाएगा। वहीं भगवान सिंह दांगी का कहना है कि ढुलाई, तुलाई और भराई वाले को अलग-अलग गेहूं देना पड़ रहा है। इतना ही नहीं चाय-नाश्ता भी कराना पड़ रहा है। दिलीप सिंह दांगी का कहना है कि एक साथ बड़े कांटे से तुलाई नहीं होने पर इस तरह किसानों से लूट हो रही है। किसानों ने कलेक्टर से मांग की है कि उपार्जन केंद्रों पर किसानों से हो रही लूट को रोका जाए।

यह हैं किसानों के आरोप

-किसानों की एक ट्राली पर 3 से 4 किलो गेहूं सिंपल के नाम पर भरा जा रहा है।

-तुलाई करने वालों द्वारा किसान की एक ट्राली में से हम्माल द्वारा 10 से 15 किलो गेहूं लिया जा रहा है।

-प्लास्टिक बारदाना वजन डेढ़ सौ ग्राम है, गेहूं लिया जा रहा है 500 ग्राम।

-किसान को मैसेज देने में तकनीकी गड़बड़ी हो रही है।

-ग्रेड नंबर के बहाने किसान को लूटा जा रहा है।

शिकायत मिलने पर की जाएगी जांच

सभी समर्थन केंद्रों पर शासन के नियमानुसार खरीदी करने के निर्देश दिए गए हैं। यदि किसी केंद्र पर गड़बड़ी हो रही है, तो किसान शिकायत दर्ज करा सकते हैं, जिसकी जांच कर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

- एसके तिवारी, जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags