अखलेश गुप्ता. सीहोर। 25 मार्च 2020 को लॉकडाउन लगने के बाद संक्रमण की पहली लहर शुरू हुई थी, जिससे शहरी सहित ग्रामीण क्षेत्र के कई गांव प्रभावित हुए था, लेकिन जागरूकता के चलते लोगों ने खुद के साथ ही परिवार व गांव को भी सुरक्षित किया था, वहीं जब दूसरी लहर आई तो संक्रमण इतनी तेजी से बढ़ा की कई लोगों ने अपनों को खो दिया। साथ ही गांव में भी संक्रमण ने पैर पसार लिए। बावजूद इसके गाइड लाइन का पालन करते हुए सीएम के गृह जिले में 1031 गांव व 497 ग्राम पंचायतों में से 152 गांव व इनमें कई ग्राम पंचायत ऐसी हैं, जहां घनी आबादी होने के बाद भी अब तक कोरोना संक्रमण का एक भी केस नहीं है। इसका प्रमुख कारण कोरोना गाइड लाइन का पालन कर दूरी बनाकर कोरोना संक्रमण को गांव से दूर रखा है। कई गांवों में जहां लोगों ने खुद को घरों में कैद किया, मास्क सैनिटाइजर का उपयोग किया, तो कई गांवों में आयोजनों को निरस्त करते हुए गांव में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया, जिससे ऐसे दौर में भी संक्रमण से दूर हैं।

जानकारी के अनुसार जिले की चार विधान सभा में 1031 गांव व 1500 से अधिक बसाहटे हैं। वहीं 497 पंचायत हैं, लेकिन बढ़ते संक्रमण के बाद भी लापरवाही नहीं बरतने पर सीहोर के 42, आष्टा के 44, बुधनी के 15, इछावर के 25 और भैरुंदा के 26 कुल 152 ग्राम पंचायत व इनके तहत आने वाले गांव ऐसे हैं, जहां अब तक कोरोना संक्रमण नहीं पहुंच सका है। जिला पंचायत सीईओ हर्ष सिंह का कहना है कि जहां ग्रामीण खुद गाइड लाइन का पालन कर रहे हैं, वहीं जिला प्रशासन, राजस्व, पुलिस, स्वास्थ्य विभाग, आंगनबाड़ी, स्व सहायता समूह की महिलाएं, वालेंटियर सहित जनप्रतिनिधि, समाजसेवी व जागरूक लोग लगातार ग्रामीणों को कोरोना गाइड लाइन का पालन करा रहे हैं, वहीं ग्रामीण खुद भी एहतियात बरत रहे हैं। यही कारण है कि अब तक कई ग्राम पंचायत व गांव में कोरोना संक्रमण नहीं पहुंचा है।

विधानसभा सीहोर का ग्राम चंदेरीः बैलगाड़ी में जुते बैलों को मास्क लगाकर किया ग्रामीणों को जागरूक

ग्राम चंदेरी के समाजसेवी एमएस मेवाड़ा ने कोरोना को शुरुआती दौर में ही समझकर ग्रामीणों में कभी बैलगाड़ी पर भजन मंडली को बैठाकर कोरोना गीत गाया, तो वहीं बैल के मुंह पर मास्क लगाकर पूरे गांव में घुमाया और ग्रामीणों को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जागरूक किया। अखंड ज्योत जलाने के साथ ही टोटका भी किए गए हैं। अब जब दूसरी लहर जानलेवा साबित हो रही है। ऐसे में ग्राम चंदेरी की 1500 आबादी व शहर से सटा हुआ गांव होने के बाद भी अब तक एक भी व्यक्ति संक्रमण की चपेट में नहीं आया। इतना ही नहीं गांव में आने-जाने वालों पर प्रतिबंध लगाने मुख्य मार्ग पर पुरुष व महिलाओं ने मोर्चा संभाल रखा है, जिससे कोरोना वायरस व इससे संक्रमित व्यक्ति अब तक गांव में प्रवेश नही कर पाए हैं।

विधानसभा बुधनी की ग्राम सतरामऊः लगातार मॉनीटरिंग व ग्रामीणों के सहयोग से हालात नियंत्रण में

ग्राम पंचायत के सरपंच साहब सिंह चौहान, सचिव विनोद तिवारी व रोजगार सहायक प्रशांत चौहान ने बताया कि सतरामऊ ग्राम पंचायत में करीब 15 सौ की आबादी है। यहां शारीरिक दूरी का पालन, ग्राम पंचायत में बाहरी लोगों के आवागमन पर प्रतिबंध लगाया गया है। लोगों के सामूहिक कार्यक्रमों पर रोक लगाई। ग्राम पंचायत में कई बार सैनिटाइज करने के साथ ही मास्क वितरण व संक्रमण को लेकर पंपलेट वितरण के साथ ही अमले द्वारा लगातार जागरूक किया गया। पानी सहित अन्य योजनाओं को बेहतर प्रबंध कर भीड़ नहीं होने दी। भाप मशीन निश्शुल्क रूप से दिलाई जा रही है। दवाओं का वितरण के साथ ही जांच लगातार की जा रही है। इसमें प्रशासनिक, पुलिस व स्वास्थ्य अमले सहित जनपद सीईओ धर्मेद्र यादव द्वारा लगातार मानीटरिंग की गई, वहीं ग्रामीणों ने जागरूकता दिखाते हुए भरपूर सहयोग किया, जिससे आज हालात नियंत्रण में हैं।

विधानसभा आष्टा की ग्राम बड़ोदिया गाडरीः जागरूकता व आवागमन पर प्रतिबंध आ रहा काम

सचिव रूपसिंह वर्मा ने बताया कि ग्राम पंचायत में दो गांव है, जिसकी कुल आबादी 2657 है। गांव वालों को सबसे पहले आवागमन पर प्रतिबंध लगाया। लोगों को गाइड लाइन के अनुसार उनके बीच पहुंचकर जागरूक किया। पंचायत में मास्क वितरण, सैनिटाइजर किया। धीरे-धीरे जागरूकता बढ़ी तो आग पूरे गांव में कोई बिना मास्क के नहीं घूमता, वहीं शारीरिक दूरी का विशेष ध्यान रखा जाता है। वरिष्ठ अधिकारियों से मिले दिशा निर्देश का पालन कराया जाता है। लोग घरों में योग, व्यायाम कर रहे हैं। साथ ही अब विशेष अभियान चलाया जा रहा है, जिसके तहत घर-घर पहुंचकर जांच के साथ ही दवाओं को वितरण व भाप दी जा रही है। इसमें ग्रामीणों को भरपूर सहयोग मिल रहा है, जिससे आज भी कोरोना संक्रमण से ग्राम पंचायत अछूती है।

विधानसभा इछावर की ग्राम खैरीः ग्रामीणों की जागरूकता के कारण नहीं फैला संक्रमण

सचिव रामनारायण नागर ग्राम पंचायत की आबादी 4 हजार है। कोरोना गाइड लाइन का पालन कराते हुए ग्राम पंचायत में सैनिटाइजर, मास्क वितरण के साथ ही जनपद सहित जिला पंचायत, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग व ग्राम पंचायत द्वारा लगातार लोगों को जागरूक किया। सामूहिक आयोजन से बचे। गांव में आने-जाने वालों पर प्रतिबंध के साथ ही कोटवार नजर बनाए रखा। वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा निर्देशों का पालन ग्रामीणों को कराया गया। साथ ही इसमें ग्रामीणों ने भरपूर सहयोग किया, जिससे महामारी चरम पर होने के बाद भी इतनी बड़ी आबादी बाली ग्राम पंचायत शारीरिक दूरी बनाकर आज भी संक्रमण से दूर हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags