आष्टा। अप्रैल का पूरा माह मुसीबतों भरा निकला है। अब मई में भी राहत नहीं है। माह के आठ दिन में ही सैकड़ों कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं और दो लोगों ने जान गंवाई है। वहीं ठीक होने की संख्या बहुत कम है। अब लोगों की समझदारी ही कोरोना की चेन को तोड़ सकती है। वैसे अभी तक कुल 45 लोगों की जानें जा चुकी है यह तो वह आंकड़ा है जो पोर्टल पर चढ़ा हुआ है। इससे कई गुना अधिक लोग मर चुके हैं। प्रतिदिन छह से आठ लोगों की मौत का आंकड़ा करीब 15 दिनों से चल रहा है।

नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

अप्रैल में जो रफ्तार थी, वह मई में भी है। इसके बावजूद लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। अब भी कई लोग बेवजह ही घरों से बाहर निकल रहे हैं। प्रशासन की सख्ती भी मुख्य मार्गों पर तो है, लेकिन कई लोग मुख्य मार्गों के सहायक मार्गों से आना-जाना कर रहे हैं। हालांकि प्रशासन की मोबाइल पार्टी इन मार्गों पर भी सर्चिंग करती है। लेकिन पिछले दिनों की तुलना में अब सख्ती अधिक बरती जा रही है। बड़ा बाजार पीपल चौक के पास भी शुक्रवार की तरह शनिवार को पुलिस जवान तो तैनात थे, लेकिन सभी को आने-जाने दिया। जबकि अन्य दिनों यहां पर सुबह सभी लोगों से पूछताछ की जाती थी। अधिकारियों का कहना है कि कोरोना की चेन तोड़ने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। लोगों के सहयोग के बिना चेन को तोड़ना मुश्किल है। इसलिए लोग भी सहयोग दे और बेवजह घरों से बाहर न निकले। आज चौदह लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है। अब कोरोना वायरस पॉजिटिव लोगों की संख्या बढ़कर 1154 हो गई है। और 45 लोगों ने कोरोना से जान गंवाई है।

हर चौथे घर में लोग सर्दी-खांसी से पीड़ित, नहीं दे रहे जानकारी

अप्रैल में मिले संदिग्ध, टीम को अधूरी जानकारी दे रहे लोग कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए गांवों व शहरों में किल कोरोना-2 अभियान के तहत स्वास्थ्य कर्मचारी घर-घर जाकर लोगों की जानकारी जुटा रहे हैं। कर्मचारियों ने बताया हर चौथे घर में सर्दी-खांसी व बुखार से लोग पीड़ित है। लेकिन गांवों की तरह लोग घर पर इलाज करवा रहे हैं। जानकारी छिपा रहे हैं। इसके चलते संक्रमण की चेन नहीं टूट रही है। सर्वे के दौरान अप्रैल में संदिग्ध मिले हैं। वहीं अब किल कोरोना-3 अभियान शुरू हो गया है, जो 7 मई से 25 मई तक चलेगा। इस दौरान कर्मचारी गांवों व शहरों में घर-घर दस्तक देंगे। एसडीएम विजय मंडलोई ने बताया शहर में टीमें सर्वे कर रही है। प्रत्येक टीम 4-4 सदस्य शामिल हैं, लेकिन लोगों द्वारा जानकारी नहीं दी जा रही है। टीम द्वारा 1 अप्रैल से सर्वे किया जा रहा है। एक दिन में 70 से 100 घर तक टीम दस्तक दे रही है। कई वार्डों में दोबारा सर्वे शुरू किया है। उन्होंने बताया सर्दी-खांसी व बुखार से पीड़ित मिलने पर कर्मचारी थर्मल स्कैन व ऑक्सी मीटर से संबंधित की जांच करते हैं। जरूरत होने पर दवाई भी दे रहे हैं। वहीं संदिग्धों की सूची बनाकर आरआरटी व एमएमयू टीम को सूची बनाकर देते हैं। इसके बाद टीम संबंधित के घर जाकर सैंपल लेने की कार्रवाई कर रही है।

राहतः कंसंट्रेटर मशीनें आई, मरीजों को मिलेगी सांसें

सिविल अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए कलेक्टर अजय गुप्ता ने 15 अत्याधुनिक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनें भेजी हैं। 10 लीटर क्षमता की यह मशीनें मरीजों को बार-बार ऑक्सीजन सिलेंडर बदलने समस्या से निजात दिलाएगी। एसडीएम विजय मंडलोई ने बीएमओ डॉक्टर प्रवीर गुप्ता को निर्देशित किया कि इन मशीनों का उपयोग कोविड मरीजों के लिए करें। 5 बेड बढाए जाए। जिसमें सामान्य अवस्था के रोगियों को रखकर उनका इलाज ओर बेहतर तरीके से किया जा सके। मशीनों के आने के बाद से ऑक्सीजन की खपत कम हो रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags