सीहोर। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सीहोर द्वारा कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। नगर मंत्री हरीश राजपूत ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण सीबीएसई बोर्ड द्वारा पूरे देश में कक्षा दसवीं के विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन दिया गया, जिसमें रिजल्ट उनके अर्धवार्षिक पेपर यूनिट टेस्ट प्री बोर्ड के आधार पर बनाया गया है, लेकिन सीहोर जिले के झगरिया स्थित स्वामी विवेकानंद स्कूल में बच्चों का आरोप है कि पूरी फीस नहीं भरे जाने के कारण उनके बोर्ड को परिणाम के नंबर ठीक तरीके से अपलोड किए गए। अभावि का कहना है कि पूरे प्रदेश व देश में जनरल प्रमोशन के तहत सीबीएसई बोर्ड के विद्यार्थी पास हुए हैं, लेकिन स्कूलों द्वारा फीस नहीं भरे जाने के कारण बच्चों के नंबर बोर्ड को ठीक तरह से नहीं पहुंचाए गए जबकि उन बच्चों के नंबर पहले अर्धवार्षिक एवं यूनिट टेस्ट में पास होने की स्थिति में थे। सभी बच्चों की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है एवं सभी विद्यार्थियों ने स्कूल प्रशासन पर आरोप लगाया कि फिश संबंधित विषयों पर प्रिंसिपल द्वारा बच्चों के साथ गाली गलौज तक की। इन सभी मुद्दों पर विद्यार्थी परिषद ने ज्ञापन सौंपा है। साथ ही मांग की है कि जल्द से जल्द इन विद्यार्थियों को समस्या का निराकरण किया जाए। यदि बच्चे पास नहीं होते हैं तो इसे जनरल प्रमोशन का नाम क्यों दिया गया है। विद्यार्थी परिषद ने मांग की है कि अर्धवार्षिक यूनिट टेस्ट प्री बोर्ड के नंबर पुनः प्रशासन द्वारा जांचे जाएं व किस आधार पर रिजल्ट बनाया उस आधार का पता लगाकर उचित व्यक्ति पर कार्रवाई की जाए नहीं तो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद उग्र आंदोलन करने के बाद होगी जिसकी संपूर्ण जवाबदारी शासन प्रशासन की रहेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local