रेहटी। क्षेत्र के प्रसिद्ध देवी शक्तिपीठ सलकनपुर विजयासन धाम में नवरात्र के अंतिम बड़ी संख्या में श्रध्दालु दर्शन करने पहुंचे। नवमी के दिन करीब 50 हजार श्रद्धालुओं ने मां विजयासन के दर्शन लाभ लिए। सुबह की आरती में अधिक भीड़ देखी गई। शाम होते-होते यह भीड़ बहुत कम श्रद्धालुओं में सिमट गई। वहीं पैदलयात्री अभी भी दूर-दूर से दर्शन करने माता के दरबार में पहुंच रहे हैं। आज विजयादशमी पर्व पर भी अधिक संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना बनी हुई है।

मां विजयासन धाम शक्तिपीठ सलकनपुर में गुरुवार को नवमी के दिन मां के भक्तों का जन सैलाव उमड़ता रहा। जहां मंगलवार की रात्रि को महानिशा पूजा के दौरान पूरी रात माता के भक्तों ने मां विजयासन के दर्शन किए, वहीं महाष्टमी पर एक लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने मां विजयासन के दरबार पहुंचकर मत्था टेका। नवमी नवरात्र का अंतिम दिन है। जिसके चलते बड़ी संख्या में लोग दर्शन के लिए पहुंचे। वहीं लोकल हॉलिडे होने के कारण भी बड़ी संख्या में लोग जिले से दर्शन के लिए पहुंचे। बताया जा रहा है कि करीब 50 हजार लोगों ने दर्शन किए। जिससे पूरे समय सीड़ी मार्ग, वाहन पहुंच मार्ग और रोप-वे मार्ग पर अपार भीड़ देखी गई, वहीं सलकनपुर से जुड़े चारों मार्गों पर वाहनों की कतारे टूट नहीं पा रही थीं। बड़ी संख्या में पदयात्रा करके भी श्रद्धालु सलकनपुर पहुंच रहे थे।

आज भी पहुंचेंगे भक्त

शारदीय नवरात्र में कोरोना के दौरान यह दूसरा मौका है जब श्रद्धालुओं का सैलाब देखने को मिला। वहीं बुधवार को भी एक लाख का आंकड़ा पार हुआ था। इससे पहले 2019 में महाष्टमी को ही करीब दो लाख श्रद्धालु पहुंचे थे। जिसको लेकर प्रशासन भी पहले से मुस्तेद था। वहीं आज भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु बिजासन धाम दर्शन के लिए पहुंचेंगे। जिसका कारण आज छुट्टी होना है। दशहरे की छुट्टी होने के कारण स्थानीय लोग बड़ी संख्या में दर्शन के लिए पहुंचते हैं। इसको लेकर भी व्यापक इंतजाम किए गए हैं। गुरुवार को अधिक वाहनों होने की संख्या में उन्हें बाईपास से निकाला जा रहा था, जिसके कारण छुटपुट जाम की स्थिति तो बनी, लेकिन लंबे समय तक जाम नहीं देखा गया। वाहन पहुंच मार्ग पर इतने वाहन अधिक हो गए थे कि वहां भी जाम की स्थिति बार बार निर्मित हो रही थी। उसके बाद वाहनों को किश्तों में भेजा जा रहा था। पार्किंग के लिए दो मंदिर पर और चार नीचे बनाए गए पार्किंग स्थल वाहनों से खचाखच भरे हुए थे। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात होने के कारण भारी अव्यवस्था देखने को नहीं मिली।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local