आष्टा। आश्विन शुक्ल पक्ष दशमी तिथि का प्रारंभ 14 अक्टूबर गुरुवार शाम 6.52 बजे से हो गया और यह तिथि दूसरे दिन शुक्रवार को शाम 6.02 बजे तक रहेगी। दशमी तिथि शुक्रवार के दिन सूर्योदय व्यापिनी व अपरा- व्यापिनी होने के कारण विजयादशमी दशहरा, शमीपूजा का पर्व 15 अक्टूबर शुक्रवार के दिन मनाया जाएगा। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग का सुबह 6.40 से 9.15 बजे तक रहेगा व इसी दिन 11.02 बजे से दोपहर 1.05 बजे तक भद्र नामक पंच महापुरुष योग व दोपहर 1.06 बजे से 3.09 बजे तक शश नामक पंच महापुरुष योग बन रहा है। अतः दशहरे की पूजा, अस्त्र शस्त्र पूजन, शमी पूजा, शास्त्र पूजा उपयुक्त शुभ योग में करना विशेष शुभ फलप्रद माना जाता है। इस दिन नीलकंठ के दर्शन करना, सीमा उल्लंघन करना भी शुभ माना जाता है। बुराई के प्रतीक रावण के साथ ही कोरोना का पुतला आज दहन किया जाएगा। विजयादशमी का पर्व विजय के उपलक्ष्‌य व विजय की कामना के लिए मनाया जाता है। अभिजीत मुहूर्त में दशहरा पूजन एवं अस्त्र-शस्त्र पूजन से विजय प्राप्ति की सिद्धि मिलती है। विजयादशमी के दिन अभिजीत मुहूर्त सुबह 11.38 बजे से 12.26 बजे तक रहेगा।

रावण के साथ 18 फीट के कोरोना के पुतले का होगा दहन, निर्माण कार्य जारी

कन्नाौद रोड स्थित नया दशहरा मैदान परिसर में रावण दहन होगा। जिसे देखने के लिए हजारों लोग पहुंचेंगे। इस बार समिति ने 51 फीट के रावण के साथ 18 फीट के कोरोना के पुतले का भी निर्माण किया है जो लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र रहेगा। इस साल कोरोना संक्रमण नियंत्रण में होने से रावण दहन के कार्यक्रम में नगरवासी भी शामिल हो सकेंगे। विजयादशमी को शाम 6 बजे आतिशबाजी के साथ बुराई के प्रतीक रावण के पुतले का दहन किया जाएगा। दशहरा मैदान परिसर में कलाकार रावण का पुतला तैयार कर रहे है। सीएमओ आरएस सोलंकी ने बताया रावण दहन राम, लक्ष्‌मण व सेना बने युवा करेंगे। इसकी तैयारियां की जा रही है। रावण दहन कार्यक्रम के दौरान यातायात व पार्किग व्यवस्था की जा रही है। इस आयोजन में 10 हजार लोगों के शामिल होने का अनुमान है। कोरोना संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है। लोगों से मास्क लगाकर आयोजन में शामिल होने के लिए कहा जा रहा है।

महाराष्ट्र के कलाकार होगे चल समारोह में शामिल

विजयदशमी का पर्व मनाने के लिए रावण बनाने वाले कलाकारों द्वारा कार्य जारी है। इस वर्ष बहुत सारे आकर्षक व संस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे। नगर में पहली बार चल समारोह में चलित रंगारंग कार्यक्रम का भी आयोजन होगा, जिसमें भगवान श्री कृष्ण व राधा रानी का नृत्य, भगवान भोलेनाथ व मां पार्वती एक ट्राले पर सवार होकर चल समारोह में शामिल होंगे। साथ ही नगर में पहली बार महाराष्ट्र से नासिक से महिलाओं की ढोल बजाने वाली टोली शामिल होगी, उसके अतिरिक्त महिलाओं का ही एक अखाड़ा भी चल समारोह में शामिल होगा। इंदौर से इस बार रंगारंग आतिशबाजी बुलाई गई है जो कि शाम 7 बजे से आरंभ होगी। इसके अतिरिक्त ढोल-नगाड़ा, बाजे बैंड व भगवान राम व दशानन का आकर्षक रथ भी चल समारोह में शामिल होगा। अन्य और भी बहुत सारे आकर्षक चल समारोह में शामिल होंगे। समिति के अध्यक्ष राजेश कुशवाह व उनकी पूरी टीम आयोजन को सफल बनाने में लगी हुई है। जिसमें पंकज यादव, शेषनारायण मुकाती, शिवनारायण मेवाड़ा, आनंद गोस्वामी, कुशलपाल लाला, भानु पालीवाल, भविष्य कालू भट्ट, प्रकाश कुशवाह, अशोक कुशवाह, योगी सक्सेना, रोहित सोनी, अनिल सोनी, महेश कुशवाह, प्रदीप कुशवाह, सुरेश कुशवाह सहित कलाकार पूरी मेहनत से आयोजन को सफल बनाने के लिए कार्य कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local