जावर। नगर मे दशहरा पर्व पर श्रीराम मंदिर मे रामदास बाबा की समाधि स्थल पर संत रामदास बाबा समिति द्वारा महाआरती का आयोजन रखा गया, जिसमें महिला पुरुष श्रद्धालु भक्तजन उपस्थित रहे। आरती दोपहर 1 बजे प्रारंभ हुई जो लगभग एक घंटे तक चली। इस दौरान तासे, ढोल-ढमाके, नगाडे, घंटी की ध्वनि से मंदिर गुंजायमान हो गया और श्रृद्धालु भजनो की धुन पर झुम उठे। इस दौरान मा महिषासुर मर्दिनी जागरण मंडल के राजकुमार सोनी, विमल सोनी, संतोष माहेश्वरी द्वारा भजनों की शानदार प्रस्तुतियां दी गई। बाबा का विशेष श्रृंगार कर पूजा अर्चना की गई। बाबा की समाधि को विशेष रूप से साज सज्जा की गई। इसके बाद महाप्रसादी का भोग लगाकर महाप्रसाद का वितरण किया गया।

रामदास बाबा की समाधि स्थल पर बनाई कुटिया

दशहरा पर्व के पावन अवसर पर आयोजित महाआरती के अवसर पर सम्पूर्ण मंदिर परिसर में स्थित बाबा की समाधि स्थल को कुटिया की तरह सजाया गया। श्री रामदास बाबा की समाधि स्थल जो आकर्षक का केन्द्र रहा। आयोजित महाआरती को सफल बनाने मे सहयोग प्रदान करने पर महाआरती समिति ने आभार व्यक्त किया। प्रसिद्ध श्रीसंत रामदास बाबा की जीवित समाधि श्रीराम मंदिर मे बनी हुई है, बाबा के चमत्कार आज भी लोगों की जुबान पर है। बाबा भोपाल नवाब के समय भोपाल मे किसी मंदिर में थे। वह जब जब आरती करते थे, तब संयोग से नमाज का समय हो जाता था एकदिन कुछ लोग एतराज करते हुए नवाब साहब के पास पहुचें, वहीं पर बाबा को बुलाकर बैठा लिया दूसरे दिन देखते है कि आरती के समय चमत्कारिक रूप से घंटे घडियालों की आवाज आने लगती है, तब बाबा की सिद्ध स्थिति को समझते हुए ससम्मान छोड़ दिया गया, लेकिन बाबा फिर भोपाल से चल कर जावर आकर रुके। आज यहां श्रीराम मंदिर है जिसे पूरे क्षेत्र मे जाना जाता है। उस समय वीरान जंगल व शमशान की जगह थी लोगो की सहमति से मंदिर स्थापित कर साधना मे लग कर क्षेत्र के लोगो को प्रभावित करने लगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local