शाहगंज। श्री रामलीला महोत्सव के तहत नगर के दशहरा मैदान में स्थानीय कलाकारों द्वारा दशहरा मंच से लक्ष्मण शक्ति, कुंभकरण वध व मेघनाथ वध की लीला का मंचन किया गया। लीला में दिखाया गया कि श्री राम व रावण की सेना में घनघोर युद्ध चल रहा है। जिसमें मेघनाथ वानर व भालुओं पर काल के समान टूट पड़ता है व सभी को परास्त कर देता है। तब सभी वानर प्रभु श्री राम के पास जाकर त्राहिमाम-त्राहिमाम भगवन कहने लगते हैं। तब प्रभु श्री राम लक्ष्मण जी को मेघनाथ से युद्ध करने के लिए भेजते हैं। दोनों में भीषण युद्ध होता है जब युद्ध का कोई परिणाम नहीं निकलता तो मेघनाथ ब्रह्मास्त्र का प्रयोग कर लक्ष्मण जी पर चलाता है और एक ही क्षण में लक्ष्मण जी ब्रह्मास्त्र लगते ही मूर्छित होकर जमीन पर गिर जाते हैं। यह देखकर सब घबरा जाते हैं तभी हनुमान जी लक्ष्मण जी को लेकर प्रभु श्री राम के पास पहुंचते हैं। लक्ष्मण की यह हालत देखकर रामजी घबरा जाते हैं व रामा दल से लक्ष्मण के प्राणों को बचाने की गुहार करते हैं व कोई उपाय बताने का अंगद सुग्रीव हनुमान जामवंत व विभीषण से कहते हैं। प्रभु की मनोदशा देखकर सभी व्याकुल हो उठते हैं। तभी विभीषण जी कहते हैं कि प्रभु लंका में सुखेन नाम का वैध रहता है। वह लक्ष्मण जी को जीवन दान दे सकता है। तभी हनुमान जी लंका से सुखेन वैध को उसकी कुटिया सहित उठा लाते हैं। सुखेन वैध नई जगह आकर अचंभे में पड़ जाता है। तब प्रभु श्री राम कहते हैं कि वैद्य जी मेरे भाई लक्ष्मण पर मेघनाथ ने ब्रह्म शक्ति का प्रयोग किया है जिससे मेरे भाई के प्राण संकट में हैं आप कुछ उपाय करें जिससे मेरे भाई के प्राण वापस आ जाएं तब सुखेन वैध कहता है कि मैं तो बेरी के घर का वैध हूं। आपके कैसे काम आ सकता हूं तब भगवान राम निवेदन करते हैं और सुखेन से कहते हैं कि वैध का काम तो रोगी को ठीक करना होता है तब सुखेन कहता है कि द्रोणागिरी पर्वत पर संजीवनी नाम की बूटी है जिसे खिलाने से ही लक्ष्मण के प्राण बच सकते हैं। तब हनुमान के संजीवनी बूटी लेकर पहुंचते ही सुखेन वैध संजीवनी बूटी पीसकर लखनलाल के मुंह में डालते हैं व लखन लाल जी जीवित हो उठते हैं। अभिनित लीला में राम नितिन शर्मा, लक्ष्मण साजन सराठे, हनुमान चंद्र प्रकाश सैनी, अंगद रामगोपाल सैनी, जामवंत राजू विश्वकर्मा, सुग्रीव छोगालाल गौर, रावण नरेश गौर, मेघनाथ सचिन भार्गव, कालनेमि नितिन तिवारी, सुखेन राजेंद्र गौर का अभिनय सराहनीय रहा।

0000000

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local