आष्टा। गुप्त नवरात्र का प्रारंभ सर्वार्थ सिद्धि योग के साथ 30 जून गुरुवार से सिद्धि योग में होगा। इस वर्ष गुप्त नवरात्र पूरे नौ दिन की रहेंगी। 8 जुलाई शुक्रवार भडली नवमीं अबूझ मुहूर्त के साथ गुप्त नवरात्र की पूर्णता होगी। विशेष बात यह है कि इन गुप्त नवरात्र में एक दिन गुरू पुष्य योग, दो दिन सर्वार्थ सिद्धि योग एवं एक दिन अमृत योग की निष्पत्ति हो रही है। गुप्त नवरात्र के नौ दिन ही शुभ माने जाते हैं लेकिन उपरोक्त विशेष योगों के साथ-साथ भडली नवमी का अबूझ मुहूर्त जमीन, जायदाद, वाहन, वस्त्र, आभूषण आदि खरीदारी के लिए विशेष शुभ रहेंगे। भडली नवमीं के दिन किसी भी राशि के युवक-युवती का विवाह बिना त्रिबल मुहूर्त प्राप्ति के भी किया जाना शास्त्र सम्मत माना गया है।

ज्योतिषाचार्य पंडित अमित तिवारी ने बताया कि आषाढ़ शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि से नवमी तक के समय में गुप्त नवरात्र मनाई जाती है। इन गुप्त नवरात्र में मां भगवती जगदंबा की गुप्त रूप से तांत्रिक आराधना करने का भी विशेष महत्व माना जाता है। इस वर्ष प्रतिपदा तिथि का प्रारंभ 29 जून बुधवार को सुबह 8.21 बजे से हो जाएगा। यह तिथि दूसरे दिन गुरुवार प्रातः 10.49 बजे तक रहेगी। उदया तिथि की प्रधानता के अनुसार गुप्त नवरात्र का प्रारंभ 30 जून गुरुवार से माना जाएगा। इस नवरात्र में किसी भी तिथि के घट या बढ़ने के नहीं होने के कारण प्रकृति या जनमानस के लिए यह नवरात्र शुभ फलप्रद रहेगी। इस नवरात्र में घटित होने वाले शुभ योग इस प्रकार हैं, सर्वार्थ सिद्धि योग 30 जून सुबह 5.30 बजे से दूसरे दिन सुबह 5.30 बजे तक, गुरू पुष्य एवं अमृत योग 1 जुलाई रात्रि 1.06 बजे से सुबह 5.53 बजे तक रहेगा। इसके अलावा 30 जून प्रतिपदा गुरूवार सिद्धि योग तथा दूसरा सर्वार्थ सिद्धि योग 6 जुलाई सप्तमी बुधवार को सुबह 11.43 बजे से दूसरे दिन सुबह 5.55 बजे तक रहेगा। इसके साथ-साथ 2 जुलाई तृतीया शनिवार के दिन पूर्ण रवि योग तथा 6 जुलाई सप्तमी बुधवार के दिन प्रवर्ध नामक योग की निष्पत्ति भी हो रही है।

साल में चार नवरात्र

ज्योतिर्विद डॉ. दीपेश पाठक के अनुसार गुप्त नवरात्र में तंत्र, मंत्र और गुप्त साधनाएं की जाती हैं। साल में चार नवरात्र होती हैं। दो गुप्त और दो सामान्य। गुप्त नवरात्र माघ और आषाढ़ में होती है, जबकि सामान्य नवरात्र चैत्र और अश्विन में मनाई जाती हैं। दूसरी ओर इसी वर्ष शारदीय नवरात्र 26 सितंबर से शुरू होकर 4 अक्टूबर तक रहेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close