सीहोर। जिले सीहोर के सिद्दिकगंज थाना अंतर्गत ग्राम नर्पाखेड़ी में रात के समय दो पुलिसकर्मी द्वारा महिला से की मारपीट का मामला सामने आया है। जब पीड़ित महिला की सिद्दिकगंज व आष्टा थाने में रिपोर्ट नहीं लिखी गई तो एसपी कार्यालय पहुंचकर पूरे मामले की शिकायत की गई, जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर पीड़ितों के बयान लिए हैं, वहीं दोनो आरक्षकों को निलंबित कर दिया है। जबकि ग्रामीणों ने टीआइ सहित दोनो आरक्षकों को निलंबित नहीं करने पर बुधवार को धरना प्रर्दशन व बाजार बंद कराने की चेतावनी दी है।

पीड़ित के भाई कमल पिता मांगीलाल द्वारा बताया गया कि राखी के दिन 12 अगस्त को हम सब परिवार के लोग राखी बंधवा रहे थे, तभी अचानक जितेंद्र पिता गोपाल सिंह शराब लेकर आया और हमारी बहनों और पिताजी को शराब पिलाई तभी कुछ समय बात जितेंद्र बाहर गया और बाहर जाकर फोन लगाया फिर वह अंदर आया। कुछ देर बाद अर्जुन सिंह व शुभम पाल आरक्षक दोनों वहां पर आए और मेरी बहन मनीषा को जितेंद्र द्वारा बाहर बुलाया गया। पीड़ित महिला मनीषा बाई द्वारा बताया गया कि पुलिस कर्मी द्वारा मेरा हाथ पकड़ कर ले जाने लगे तभी मेरे बीच और पुलिस वाले के बीच झड़प हुई और मैं चिल्लाई, तभी मेरे पिता सामने वाले घर में सोए हुए थे, वहां आए और उन्हें भी उनके द्वारा डंडे एवं लात से मारा गया, तभी अचानक पुलिस कर्मी के द्वारा मुझे लाठी से मारा गया और मैं रोड पर बेहोश होकर गिर गई, लेकिन चिल्ला चोट की आवाज सुनकर कमल घर से बाहर आया और देखा कि पुलिस कर्मी द्वारा उसके पिता को घसीट कर पीटा जा रहा है और उसकी बहन मनीषा रोड पर बेहोश पड़ी हुई है, तभी उन पुलिसकर्मियों के पीछे चिल्ला कर डंडा लेकर दौड़ा तभी वहां दोनों पुलिसकर्मी उनकी मोटरसाइकिल लेकर भाग खड़े हुए, तभी हमारे द्वारा हमारी बहन को सिद्दिकगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, वहां पर उसका उपचार नहीं किया गया और आष्टा के लिए बताया गया और बोला गया कि पहले थाने में रिपोर्ट दर्ज कराओ तभी थाना प्रभारी कमल सिंह ठाकुर सहित दोनों आरक्षक वहां पर पहुंचे और हम थाने जाने लगे तो हमें डराया धमकाया गया। वह बोले की आपकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की जाएगी। आप आष्टा जाकर रिपोर्ट दर्ज कराएं तभी हम पीड़ित को लेकर सिविल अस्पताल मैं उपचार कराया है। जब थाना में रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई तो हम लोगों द्वारा एसपी आफिस सीहोर जाकर आवेदन दिया गया। इसके बाद हमारे बयान तो लिए गए है, लेकिन पुलिस द्वारा बयान बदलने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। उक्त मामले में सिद्दिकगंज टीआइ कमल सिंह का कहना है कि ममला दर्ज कर जांच में लिया गया है, वहीं दोनो आरक्षकों को निलंबित कर दिया गया है।

आरक्षकों सहित टीआइ को निलंबित करने की मांग

ग्राम के सुनील कटारा, मुकेश भोसले, जयस ब्लाक अध्यक्ष कैलाश रावत, पूर्व सरपंच दिलीप सोलंकी, उपसरपंच लखन डुडवे, राहुल बड़गुज्जर, सरपंच सुनील डुडवे, पप्पू ओबराय, अनार सिंह खरतिया, सुनील, अनिल व पीड़ित के परिवार का कहना है कि यदि इन पुलिसकर्मी पर कड़ी कार्रवाई नहीं की गई तो हम इसके लिए धरना प्रदर्शन करेंगे और थाना का घेराव किया जाएगा। साथ ही सिद्दिकगंज बाजर बंद किया जाएगा। हम ग्रामीणों की मांग है कि इन्हें थाना प्रभारी सहित दोनों पुलिसकर्मियों को तत्काल निलंबित किया जाए, नहीं तो हमारे द्वारा उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close