सीहोर। महोडिय़ा में तिरंगा झंडा यात्रा निकाली गई। ग्रामवासियों ने गांव के बेटे दिवांगत फौजी मोरसिंह की स्मृति में श्रद्धाजंली कार्यक्रम का आयोजन किया। कैंडल जलाकर सैकड़ों ग्रामीण महिला, पुरूषों और बच्चों ने मोरसिंह के चित्र के समक्ष विन्रम श्रद्धांजलि अर्पित कर नमन किया। कार्यक्रम के दौरान सेवानिवृत और छुट्टी पर गांव पहुंचे भारतीय सेवा के वीर जवानों का सम्मान भी किया गया। ग्रामवासियों द्वारा सेना हेडक्वाटर और केंद्र सरकार से महोडिय़ा के बेटे फौजी मोर सिंह को शहीद का दर्जा देने की मांग की गई।

गांव के श्रीराम मंदिर से मंगलवार की रात युवा नेता अंकित धनगर के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं और देश भक्त ग्रामवासियों के द्वारा भगवान की पूजा अर्चना कर तिरंगा यात्रा का शुभारंभ किया। तिरंगा यात्रा गांव के प्रमुख मार्गों से होकर श्रद्धांजलि कार्यक्रम स्थल देवनारायण मंदिर परिसर पहुंची। तिरंगा यात्रा में बच्चे कैंडिल और तिरंगे लेकर चल रहे थे। भारत माता की जय और जय जवान जय किसान के नारे लगाए जा रहे थे। अनेक ग्रामीणों के द्वारा वीर सैनिक मोर सिंह के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पंजाली अर्पित की गई। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए युवा नेता अंकित धनगर ने कहा कि मीर सिंह धनगर का जन्म सीहोर जिले के ग्राम महोडिय़ा में हुआ था। जिसके बाद वह पढ़ाई के लिए अपने मामा के यहां शाजापुर जिले के ग्राम रनायल चले गए थे। चार वर्ष पहले हीं मोर सिंह भारतीय सेना में भर्ती हुए थे। अरूणाचल प्रदेश में हुए सड़क हादसे में डयूटी के दौरान उनकी मृत्यु हो गई थी, लेकिन सेना और केंद्र सरकार ने उनको शहीद घोषित नहीं किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से रानू व्यास, राम सिंह, सुनील राय, लाल सिंह, राजमल धनगर, हेमराज सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामवासी शामिल रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local