जिले की 13 लाख आबादी को लगाने होंगे चार करोड़ 40 लाख पौधे

सीहोर। जिले में सागौन के घने वन हैं। जो देवास, रायसेन और भोपाल के वन क्षेत्र से मिले हुए हैं। यहां करोड़ों की संख्या में पेड़ लगे हैं। जो जिले की जनसंख्या के हिसाब से ज्यादा हैं, लेकि न जिले के कु ल क्षेत्रफल के हिसाब से वन क्षेत्र कम हैं। जिले के कु ल क्षेत्रफल के मुकाबले वन क्षेत्र सात फीसद कम है। यह आकड़ा सरकारी है। जबकि जिले में पेड़ों की कटाई तेजी से हो रही है। जिससे वन क्षेत्र सिकु ड़ता जा रहा है। कि तना वन क्षेत्र कम हुआ है इसके आधिकारिक आंकड़ें मौजूद नहीं हैं, लेकि न यदि सरकारी आंकड़ों में से तीन प्रतिशत भी वन क्षेत्र कम हुआ है तो आंकड़ों में बड़ा बदलाव आ जाएगा। जो पर्यावरण के लिए बहूत ज्यादा नुकसान दायक होगा।

जिला प्रशासन और जिले की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार जिले का कु ल क्षेत्रफल 6 लाख 56 हजार 368 हेक्टेयर है। जिस पर करीब 13 लाख की आबादी बसर करती है। वहीं जिले में वन क्षेत्र का रकबा एक लाख 72 हजार 554 हेक्टेयर है। शासन के अनुसार कु ल क्षेत्र का 33 फीसद वन क्षेत्र होना चाहिए। जिले के कु ल क्षेत्रफल के हिसाब से जिले में जंगल का क्षेत्रफल दो लाख 16 हजार 600 होना चाहिए। जबकि जिले का वन क्षेत्र इस मानक से सात फीसद कम है। मानक के अनुसार वन क्षेत्र बनाने के लिए हमें करीब 45 हजार हेक्टेयर पर पौधारोपण कर इसे वन क्षेत्र में विकसित करना होगा। इतने क्षेत्र को वन क्षेत्र के रुप में विकसित करने के लिए हमें करीब 4 करोड़ 40 हजार पौधे लगाने होंगे। और इनमें से 80 प्रतिशत यदि पेड़ में तबदील हो जाते हैं। तो भूमि वनाच्छादित हो जाएगी।

विशेषज्ञ की रायः आपदाएं आएंगी

पर्यावरणविद् एनपी शर्मा बताते हैं कि यदि आबादी के मान से वन क्षेत्र नहीं होंगे तो हवा विषैली होती जाएगी। जैसे-जैसे वन कम होंगे। सांस लेना मुश्किल होता जाएगा, लेकि न इस स्थिति तक पहुंचने से पहले ही भूकंप, भू-स्खलन, बाढ़ और सूखे जैसी आपदाएं आएंगी। साथ ही एक बात और कई जगह शहरों से दूर वन हैं। जबकि शहरों के आस-पासा और शहरों में भी पौधा रोपण कि या जाना चाहिए। ताकि वायु मंडल साफ रहे।

0000000

गरीबों की जगह अपात्र लोगों को दिला रहे योजना का लाभ

धामनखेड़ा के ग्रामीणों ने ज्ञापन देकर सरपंच पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप, कार्रवाई की मांग

फोटो 12 सीहोर। ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचकर दिया ज्ञापन। नवदुनिया।

सीहोर। ग्राम पंचायत धामन खेड़ा के ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन दिया, जिसमें कहा गया कि सरपंच चिंताबाई व उनके पति हरिनारायण और पंचायत सचिव द्वारा पंचायत में भारी भ्रष्टाचार कि या जा रहा है। ग्राम के गरीब अनुसूचित जनजाति के लोगों की उपेक्षा की जा रही है। सरपंच द्वारा अपने ही रिश्तेदार, मुके श दिनेश, रामेश्वर पिता बलराम तीनों भाइयों को अलग-अलग कु टीर दी गई है, लेकि न एक ही मकान का निर्माण कि या गया है, जिसमें रामस्वरुप द्वारा प्राइवेट स्कू ल संचालित कि या जा रहा है। उक्त व्यक्ति के पास ट्रैक्टर व तीनों भाई 10 से 15 एकड़ जमीन के मालिक है और पूरी तरह संपन्न है।

ग्राम पंचायत धामनखेड़ा में सरपंच सचिव द्वारा वन अधिकार पत्र के लिए झूठे प्रस्ताव दिए गए हैं, जो लोग 2010 के पहले धामनखेड़ा के निवासी नहीं थे। कहीं और से आकर बसे हैं। ऐसे लोगों को पंचायत द्वारा पैसे लेकर झूठे प्रस्ताव दिए गए हैं। उस प्रस्ताव वाली बैठक में सरपंच चिंता बाई उपस्थित नहीं थी। प्रस्तावों पर भी सरपंच पति हरिनारायण द्वारा फर्जी हस्ताक्षर कि ए गए हैं व ऐसे लोगों को भी पंचायत द्वारा प्रस्ताव दिए गए हैं, जिनका वन भूमि पर कोई कब्जा नहीं है। वर्तमान अवास हितग्राहियों की सूचि जारी की गई है, जिसमें लगभग 30 प्रतिशत ऐसे लोगों को शामिल कि या गया है, जिसमें पूर्व से ही पक्के मकान बने हुए हैं। कई हितग्राहियों के शौचालय अधूरे पड़े हैं और रिकॉर्ड में कंप्लीट होना बताया गया है। शौचालयों में भी सचिव व सरपंच द्वारा भ्रष्टाचार कि या गया है।

सरपंच ने रिश्तेदार की बहू का बनवा दिया सहायिका

ग्राम पंचायत में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका की नियुक्ति की गई है। नियम अनुसार ग्राम की बहू को ही नियुक्त कि या जाना चाहिए था, लेकि न सरपंच ने अपनी पुत्री को आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका अपने रिश्तेदार की बहू को बना लिया है और ग्राम की पात्र बहूओं के आवेदनों को हटवा दिया गया। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति में सरपंच द्वारा गड़बड़ी कराई गई है।

सरपंच पति के हस्ताक्षर से हो रहे काम

सरपंच सचिव द्वारा अपने खास लोगों के खाते व पासबुक और एटीएम अपने पास ले रखे हैं। कु छ खास खातों में ही राशि डालकर सरपंच सचिव द्वारा निकलवा ली जाती है और हितग्राहियों को उसका लाभ नहीं मिल पाता है। जिन खातों में सरपंच द्वारा राशि डलवाई जा रही है उन खातों की जांच कराई जाए, उक्त व्यक्तियों द्वारा पंचायत में कराए जाने वाले कार्यों में मजदूरी नहीं की जा रही है। ग्राम के जरुरतमंद अनुसूचित जनजाति एवं अनुसूचित जाति के हितग्राहियों को लाभ नहीं मिल रहा है। सरपंच पति हरिनारायण वर्मा ही मीटिंग लेते हैं और अपनी पत्नी के स्थान पर वही हस्ताक्षर करते हैं सभी हस्ताक्षर ओं की जांच कराई जाए। सचिन भिलाला, धर्मेंद्र भिलाला, पवन सूर्यवंशी, मदन, विक्रम भिलाला आदि ने दोषियों की जांच कर दंडात्मक कार्रवाई की मांग की है।

0000000

बिजली बिलों में कि सी भी उपभोक्ता के साथ परेशानी नहीं होने दी जाएगीः जसपाल अरोरा

सीहोर। भाजपा प्रदेश कार्य समिति सदस्य जसपाल सिंह अरोरा ने प्रेस वार्ता आयोजित कर बताया कि विद्युत मंडल द्वारा बिजली उपभोक्ताओं को जारी होने वाले बिजली के बिलों को भुगतान में अधिकांश शिकायतें प्राप्त हो रही है तथा विगत दिनों उपभोक्ताओं के बिजली बिल को लेकर कु छ लोगों द्वारा धरना आंदोलन कि या जाकर राजनैतिक स्वार्थ सिद्ध कि या जा रहा है। इस संबंध में मेरा समस्त उपभोक्ताओं से अपील है कि जिन लोगों के बिल अधिक राशि के आ रहे हैं, वह बिलों की फोटोकापी मेरे निवास पर अथवा नगरपालिका कार्यालय में प्रस्तुत करें। जिसे संकलित कर विद्युत मंडल के अधिकारियों को प्रेषित कर अधिक राशि के बिलों को कम कराया जाकर उचित बिल राशि का भुगतान कराने की पहल की जा सके ।

जानकारी देते हुए बताया गया कि देश व प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है, जो हमेशा गरीबों के कल्याण के लिए कृत संकल्पित है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा विद्युत बिलों में अधिक राशि आने की शिकायत को लेकर विगत दिनों उपभोक्ताओं से भी रुबरु वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से चर्चाकर विद्युत मंडल के अधिकारियों को निर्देशित कि या गया है कि कि सी भी बिजली उपभोक्ता को बिजली बिलों के भुगतान को लेकर कोई परेशान न हो। इस बात को सुनिश्चित करें तथा उपभोक्ता से न्यूनतम राशि ही जमा कराए। श्री अरोरा ने कहा कि में भाजपा सरकार की ओर से आपको आश्वस्त करता हूं कि आप निश्चिंत रहें, जिनके बिजली के बिल अत्यधिक आए हैं, उनके अधिक बिल नहीं भरने देंगे। अतिरिक्त राशि को कम कराया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना