संत के बिना परमात्मा की प्राप्ति असंभवः पंडित श्री शर्मा

-आज किया जाएगा चौसठ जोगनी मरी माता मंदिर में प्रसादी का वितरण

सीहोर। भगवान श्रीराम ने देवी की शक्ति और संतों की सेवा से ही अधर्म का नाश किया था। ज्ञान और भक्ति के बिना भगवान को पाना संभव नहीं है, क्योंकि ज्ञान को पिता और भक्ति को माता कहा गया है। इसलिए परमात्मा को पाने के लिए दोनों की परम आवश्यकता है।

उक्त विचार शहर के विश्रामघाट मां चौसठ योगिनी मरी माता मंदिर पर सोमवार को मंदिर द्वारा संतो के सम्मान के दौरान पंडित गणेश शर्मा ने कहे। मंदिर परिसर में एक दर्जन से अधिक संतों और ब्राह्मणों का सम्मान किया गया। इस मौके पर व्यवस्थापक गोविंद सिंह मेवाड़ा, रोहित मेवाड़ा, मनोज दीक्षित मामा, हीरु बेलानी, नरेन्द्र डाबी, मयंक गोगिया, पंडित उमेश दुबे, रामू सोनी, सुनील चौकसे, अजय मिश्रा, मितलेश शर्मा, प्रहलाद परमार, अखिलेश माहेश्वरी, आशीष माहेश्वरी, कृष्णकांत, सुभाष कुशवाहा, चिंटू मेवाड़ा, परवेश, सोनू और मोनू आदि शामिल थे। उन्होंने राम नाम पर चर्चा करते हुए कहा कि जैसे विभीषण रूपी जीव आत्माए राम रूपी परमात्मा, सीता जी एवं हनुमान रूपी संत जब विभीषण रूपी जीव आत्मा हनुमान रूपी संत की शरण को प्राप्त करती है, तो वो गुरु के माध्यम से अपने अंतर्घंट में राम रूपी परमात्मा का दर्शन करती हैं। ईश्वर दर्शन के पश्चात जब भक्त ध्यान की गहराई में उतरता है तो वह भक्ति रूपी माता सीता को प्राप्त करता है। यह सब गुरु और संतों के माध्यम से ही संभव होता है। इसलिए आज के समय के अनुसार जीवन में भी संत का होना अनिवार्य है। संत के बिना कोई परमात्मा को पा नहीं सकता। ईश्वर का साक्षात्कार करने व देखने के लिए एक संपूर्ण संत चाहिएए जो मष्तिक पर हाथ रख हमें ईश्वर दर्शन करा दे।

आज किया जाएगा प्रसादी का वितरण

जिला संस्कार मंच के प्रियांशु दीक्षित ने बताया कि विश्रामघाट मां चौसठ योगिनी मरी माता मंदिर लंबे समय से धार्मिक कार्यक्रमों का सिलसिला जारी है। इसी तारतम्य में मंगलवार को प्रसादी का वितरण किया जाएगा। हर रोज मंदिर में महिलाओं द्वारा देवी का भजन किया जा रहा है।

...........

अखलेश गुप्ता

000000000000

जिले में आठ व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट आई पॉजिटिव

- वर्तमान में कोरोना सक्रिय पाजिटिव की संख्या 133, दस को किया डिस्चार्ज

सीहोर। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान आठ व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाजिटिव प्राप्त हुई है। सीहोर शंकर कालोनी व पुलिस लाइन से तीन व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाजिटिव प्राप्त हुई है। श्यामपुर के रफीकगंज से एक व्यक्ति, बुदनी के बायां से तीन व्यक्ति तथा इछावर के काला पहाड़ से एक व्यक्ति की कोरोना जांच रिपोर्ट पाजिटिव प्राप्त हुई है। जिले में सक्रिय पाजिटिव की संख्या 133 है। 10 व्यक्तियों को रिकवर होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया, जिनमें से होम आइसोलेशन में रखे गए व्यक्ति भी शामिल हैं। जिले में कुल डिस्चार्ज रिकवर व्यक्तियों की संख्या 1910 है। 41 संक्रमित व्यक्तियों की मौत हो चुकी है।

सोमवार को पाजिटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट व बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पाजिटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है। जिले में कुल कोरोना पाजिटिव व्यक्तियों की संख्या 2084 है, जिसमें से 41 की मृत्यु हो चुकी है। 1910 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए हैं तथा वर्तमान में सक्रिय पाजिटिव की संख्या 133 है। वहीं 171 सैंपल जांच के लिए गए। जिले से अब तक कुल 32 हजार 880 सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनमें से 29 हजार 571 सैंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। सोमवार को 223 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है। कुल 1154 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सैंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद के जिला स्तरीय कोविड 19 काल सेंटर स्थापित किया गया है।

....

प्रमाणित बीज की दरें निर्धारित

सीहोर। बीज एवं फर्म विकास निगम द्वारा किसानों को शासन द्वारा निर्धारित दरों पर प्रमाणित बीज उपलब्ध कराए जा रहे हैं। निगम द्वारा भोपाल सम्भाग में बीज निगम के गोदाम, कृषि विभाग प्राथमिक सहकारी समितियों तथा विपणन संघ के माध्यम से इन बीजों की बिक्री की जा रही है। इस संबंध में बीज निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि प्रमाणित बीज की बिक्री के लिये शासन द्वारा गेहूं 3700 रुपये प्रति क्विंटल, चना 6600 रुपये प्रति क्विंटल, मसूर 6550 रुपये प्रति क्विंटल, अलसी 5950 रूपये प्रति क्विंटल तथा सरसों 6700 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बिक्री के लिये उपलब्ध है। बीज निगम के पास वर्तमान में 3500 क्विंटल गेहूं, 250 क्विंटल चना, 100 क्विंटल मसूर, 25 क्विंटल अलसी तथा 25 क्विंटल सरसों के प्रमाणित बीज उपलब्ध हैं। किसान गेहूं, चना तथा मसूर के बीजों का उपयोग 10 वर्ष तक तथा अलसी एवं सरसों के बीजों का उपयोग 15 वर्षों की अवधि तक कर सकते हैं। किसान अपनी आवश्यकता के अनुसार बीज निगम से सम्पर्क करके प्रमाणित बीज प्राप्त कर सकते हैं।

...........

अखलेश गुप्ता

000000000000

दो बार लगेंगे टीके, लिए जा रहे परिचय पत्र

-कोविड 19 वैक्सीन आने के पूर्व की तैयारी जारी, पंजीकृत जगहों पर पहुंचेगी दवा

सीहोर। कोविड वैक्सीनेशन संबंधी प्रारंभिक तैयारियां पूर्ण की जा रही हैं। इसके अंतर्गत प्रथम फेस में चिन्हित स्वास्थ्य कर्मियों कोरोना योद्धा एवं हाई रिस्क ग्रुप हितग्राहियों का डाटाबेस तैयार किया जाएगा। इसके बाद में राष्ट्र व राज्य स्तरीय वीडियो कांफ्रेंस आयोजित कर समस्त अधिकारियों एवं स्टॉफ का प्रशिक्षण पूर्ण कर लिया गया है। जिला स्तर पर कलेक्टरों को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

जल्द ही समस्त शासकीय अस्पतालों स्वास्थ्य विभाग, चिकित्सा, शिक्षा, पुलिस, गैस राहत, नगर निगम आदि एवं क्लीनिकल स्टेबलिशमेंट एक्ट के अंतर्गत पंजीकृत सभी क्लीनिक, अस्पताल, नर्सिंग होम, डायग्नोस्टिक सेंटर में कार्यरत चिकित्सक व स्टॉफ का फोटो, पहचान पत्र एवं मोबाइल नम्बर प्रारूप में दर्ज किया जाएगा। ताकि टीकाकरण दिवस पर एसएमएस के माध्यम से टीकाकरण स्थान एवं समय की जानकारी प्रेषित की जा सके। कोविड 19 वैक्सीन के प्रत्येक हितग्राही को एक माह के अंतराल से दो बार टीके दिए जाने की योजना है, जो कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये हितकारी होगा।

जानकारी शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश

राज्य स्तर पर अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य द्वारा वैक्सीन के रख रखाव, परिवहनए, माइक्रो प्लान, शीत श्रंखला, उपकरण, मेन पावर, सुपरविजन, मानीटरिंग आदि अनेक सूक्ष्‌म बिंदुओं पर गहन समीक्षा की जा चुकी है। आयुक्त स्वास्थ्य सेवाएं द्वारा राज्य नोडल अधिकारी टीकाकरण, आईडीएसपी एवं जिला स्तरीय अधिकारियों को चेक लिस्ट के अनुसार तैयारियों की जानकारी शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। भारत शासन द्वारा मिशन संचालक एनएचएम को राज्य स्तरीय कोविड टीकाकरण के लिए राज्य नोडल अधिकारी के रूप में चिन्हित किया गया है।

...........

अखलेश गुप्ता

0000000000000

सरदार पटेल जयंती 31 अक्टूबर को, निकलेगा मार्च पास्ट

सीहोर। 31 अक्टूबर को स्व सरदार वल्लभ भाई पटेल की जन्म तिथि को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाएगा। राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई जाएंगी। एकताए अखंडता और सुरक्षा की भावना को मजबूती प्रदान करने के लिए राज्य पुलिस और अन्य वर्दीधारी बलों तथा अन्य एजेंसियों द्वारा 31 अक्टूबर की शाम को मार्च पास्ट का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम वेबकास्ट किए जाएंगे ताकि सभी आमजन इस कार्यक्रम को देख सकें। इस कार्यक्रम में कोरोना योद्धा जैसे डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मी, सफाई कर्मी इत्यादि को आमंत्रित किया जाएगा। कार्यक्रम आयोजित करते समय कोविड 19 के दिशा निर्देशों का पालन सुनिश्चित किया जाए।

...........

अखलेश गुप्ता

000000000000

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस