seoni News : सिवनी (नई दुनिया प्रतिनिधि) । नगर के सिंचाई कालोनी स्थित शासकीय कन्या परिसर की लगभग 50 छात्राएं अंडा करी खाने से बीमार हो गईं। इन छात्राओं को रविवार की रात भोजन में अंडा करी दी गई थी। इसके बाद से कुछ छात्राओं की तबियत बिगड़ गई थी, लेकिन रात में कोई कर्मचारी के मौजूद नहीं रहने के कारण सोमवार की सुबह छात्राओं को उपचार के लिए आटो से छपारा अस्पताल ले जाया गया। इस मामले में कन्या परिसर के कर्मचारियों की लापरवाही सामने आई है। हालांकि उपचार के बाद डाक्टर ने किसी भी छात्रा के गंभीर रूप से बीमार नहीं होने की बात कही है।

प्राचार्य ने किया मामले को छिपाने का प्रयास

शासकीय कन्या परिसर की कक्षा छह से लेकर नौ तक की लगभग 50 छात्राएं को साेमवार की सुबह उपचार के लिए छपारा अस्पताल में लाया गया। इस मामले की जानकारी लगते मीडियाकर्मी अस्पताल पहुंचे, तो कन्या परिसर के प्राचार्य देवीसिंह उइके मामले को छिपाने का प्रयास करते नजर आए। प्राचार्य यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि छात्राओं करे सामान्य जांच के लिए अस्पताल लाया है। वहीं समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र छपारा के बीएमओ डाक्टर टीएस इनवाती ने जांच करने के बाद बताया कि विषाक्‍त भोजन की वजह से छात्राएं बीमार हुई हैं।जांच के बाद तीन छात्राओं को भर्ती किया गया। अन्य छात्राओं को दबाइयां देकर वापस पहुंचा दिया गया।

रात में नहीं था कोई भी जिम्मेदार कर्मी

इस मामले को लेकर जब कन्या परिसर प्रबंधन के लापरवाह रवैया की पोल खुलती नजर आने लगी तो इस मामले को कन्या परिसर प्रबंधन द्वारा दबाने की कोशिश करते रहे।वहीं कन्या परिसर की अध्ययनरत छात्राओं ने बताया कि उन्हें रविवार की रात करीब 11 बजे से दस्त लग रहे थे।रात में कोई भ्ज्ञी जिम्मेदार लोग नहीं थे, ना वहां कर्मचारी थे।सोमवार की सुबह जब वार्डन और प्राचार्य आए तब उन्हें छपारा अस्पताल में लाकर भर्ती कराया गया है।

इनका कहना है

शासकीय कन्या परिसर में छात्राओं के बीमार होने के मामले की जांच कराई जाएगी।जांच में जो भी दोषी या लापरवाह पाया जाएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।

अमर सिंह उइके,

सहायक आयुक्त, आदिमजाति कल्याण विभाग

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close