छपारा(नईदुनिया न्यूज)। मप्र कांग्रेस सेवादल द्वारा 7 को कांग्रेस सेवादल के संस्थापक डॉ एनएस हार्डीकर की जयंती कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए श्रद्धापूर्वक मनाई गई। कांग्रेस सेवादल के प्रदेश मुख्य संगठक रजनीश हरवंश सिंह ने बताया कि कांग्रेस सेवादल के संस्थापक डॉ एनएस हार्डीकर का जन्म 7 मई 1889 को रत्नागिरी के तालुक के हर्डी नामक गांव में हुआ था। उन्होनें ही देश के राष्ट्रीय झंडे के क्रमिक विकास व स्वतंत्रता आंदोलन के लिए संघर्ष किया था। उसके साथ ही उन्होनें देश में कुशल कार्यकर्ता व नेताओं को प्रशिक्षित कर तैयार किया था ।

डॉ. हार्डीकर की जयंती पर प्रदेश मुख्य संगठक रजनीश हरवंश सिंह ने क्षेत्र में गरीबों, जरूरत मंदों को भाप स्टीमर, कोविड की दवाई, आक्सीजन सिलिंडर, अनाज वितरण इत्यादि सेवा कार्य किए।

उन्होंने कांग्रेस सेवादल के समस्त पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से आव्हान किया कि वे अभा कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई व राष्ट्रीय सचिव चंद्रप्रकाश बाजपेयी के निर्देशानुसार कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए अपने अपने क्षेत्रों में कोरोना बीमारी की रोकथाम के लिए जनजागरण अभियान चलाकर हेलो डाक्टर हेल्प लाइन सुविधा के माध्यम से जरूरतमंदो व गरीबों, बेसहारा लोगों की सेवा की भरसक मदद करना ही डॉ हार्डीकर को सच्ची पुष्पांजलि होगी।

मई माह में विवाह कार्यक्रम प्रतिबंधित

सिवनी। कोरोना वायरस संक्रमण से रोकथाम के लिए मई माह में विवाह समारोह प्रतिबंधित किया गया है। कलेक्टर ने जिले में कोरोना कर्फ्यू की अवधि 17 मई तक बढ़ाने के साथ ही विवाह कार्यक्रम अनुमति को प्रतिबंधित करने के आदेश जारी किए हैं। कलेक्टर ने आमजनों से अपील की गई है कि कोरोना संक्रमण के मद्देनजर शादी-विवाह सहित सभी सामाजिक कार्यक्रमों मई माह के लिए स्थगित करें, मृत्यु भोज आदि सीमित व्यक्तियों की उपस्थिति में किया जाए।

स्पॉंसरशिप योजना तहत आवेदन आमंत्रित

सिवनी। जिले के 18 वर्ष से कम उम्र के बालक, बालिका जरूरतमंद बच्चों को वाल प्रयोजन (स्पॉंसरशिप) के अंतर्गत शासकीय व निजी प्रयोजन से सहायता प्रदान कि जानी है। इस उदेश्य कि पूर्ति के लिए प्रति बच्चा प्रति माह 2000 र्स्पये बच्चे के माता पिता या संरक्षक को प्रदान किए जाने का प्रावधान है। ऐसे बच्चे जिनके माता - पिता असहाय या किसी गंभीर, असाध्य बीमारी से पीड़ित है व जो गरीबी रेखा के नीचे निवासरत हैं, ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है व रिश्तेदार की देखरेख में रह रहे है। ऐसा बच्चा जो सम्पूर्ण परिवार की देखरेख कर रहा है। ऐसे परित्यक्त बच्चे जो दादा-दादी या रिश्तेदार की देखरेख में रह रहे है। ऐसे बच्चे जिनके एकल अभिभावक व उन्हें (अभिभावक को) कारागृह का दंड प्राप्त होने पर संरक्षक परिवार को पात्रता होगी। ऐसे बच्चे जिनका गैर कानूनी उद्देश्य के लिए उपयोग किया गया है या किए जा रहे हैं व जिनका परिवार गरीबी रेखा के नीचे निवासरत हैं। ऐसे बच्चे जो कोविड -19 व किसी अन्य महामारी के कारण अपने माता-पिता के साथ पलायन करने बेरोजगार होने व अन्य कारणों से विपरीत आर्थिक व मनोसामाजिक परिस्थितियों में रह रहे हैं। उक्त श्रेणी के जरूरतमंद बच्चों को निजी स्पॉंसरसिप अर्तगत सहायता करने के लिए इच्छुक व्यक्ति संगठन महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यालय बींझावाडा व स्थानीय कार्यालय बाल कल्याण समिति में संपर्क कर सकते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags