सिवनी, नईदुनिया प्रतिनिधि। पेंच टाइगर रिजर्व के कोर गेट एक अक्टूबर से देशी-विदेशी पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे। प्रबंधन ने टुरिया, कर्माझिरी, गुमतरा गेट से पर्यटकों को जंगल की सैर कराने की जरूरी तैयारियां पूरी कर ली हैं। पर्यटकों को सबसे अधिक पार्क के बाघ व काला तेंदुआ आकर्षित कर रहा है। पर्यटक इसके विषय में जानकारी पाकर पार्क में आने और इन्हें देखने के लिए उत्सुक हैं। इस बीच टाइगर रिजर्व के प्रबंधन की नब्ज टटोलने पहुंचे राष्ट्रीय स्तर की एमइइ टीम पेंच के कामों को देखने के बाद लौट गई है।

टीम ने अलग-अलग क्षेत्रों में जाकर पार्क प्रबंधन का तीन दिनों तक आंकलन किया। पेंच टाइगर रिजर्व के डिप्टी डायरेक्टर रजनीश कुमार सिंह ने बताया कि एमइइ का निरीक्षण हर चार साल में एक बार होता है। पर्यटन सीजन की शुरुआत एक अक्टूबर से हो रही है। पार्क के कोर एरिया के गेट पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे। हालांकि, बारिश के कारण पार्क की कई सड़कें खराब हो गईं तो कहीं-कहीं खरपतावार ऊगी हुई है। रास्तों में पानी भरा हुआ है। इसको लेकर पार्क प्रबंधन भी परेशान है।अधिकारियों का कहना है कि सुविधा के अनुसार पर्यटकों को सैर कराई जाएगी।

रिसोर्ट में दिखेगा प्राकृतिक नजाराः

पेंच टाइगर रिजर्व के सबसे अधिक पर्यटकों की आवाजाही वाले गेट कर्माझिरी व टुरिया के आसपास के रिसोर्ट संचालकों ने पर्यटकों को लुभाने कई आकर्षक व्यवस्था की हैं। रिसोर्ट में उन्हें प्राकृतिक वातावरण मिले, इसके लिए बांस व दूसरी प्राकृतिक सामग्री से बने फर्नीचर, झोपड़ी, कलाकृति बनवाई गई है।मानसून के बाद जंगल के मनोरम द्श्यों को निहारने पर्यटकों ने सबसे पहले सफारी का आनंद लेने एडवांस बुकिंग करा ली है।पेंच पार्क की सफारी का आनंद लेने जो पर्यटक आएंगे, उनको आरामदायक जिप्सी में पार्क का भ्रमण कराने के लिए गाइड तैयार हैं। पार्क में वर्षाकाल में जो जिप्सी संचालित नहीं हो रही थीं, उनकी सर्विसिंग कराकर चालकों ने फिर से पर्यटकों के लिए तैयार कर लिया है।

पेंच का प्रबंधन देखकर लौटी एमइइ टीमः

पेंच टाइगर रिजर्व का प्रबंधन कितना बेहतर है इसको जानने के लिए मैंनेजमेंट एवोल्युशन इफेक्टिवनेस (एमइइ) की टीम ने 24 से 28 सितंबर तक पेंच डेरा डाले रखा।पहले व दूसरे दिन टीम ने पार्क के हर एरिया का निरीक्षण किया, कर्मचारियों के अलावा ग्रामीणों, गाइड, जिप्सी संचालकों से चर्चा की। निर्धारित फार्मेट के आधार पर अंक तय करते गए। टीम ने पार्क की हर गतिविधियों को अपने रिकार्ड में लिया।मंगलवार को टीम ने अंतिम निरीक्षण किया।पूरे सर्वे व तथ्यों के आधार पर पार्क की मिलने वाले अंकों के आधार पर रैंकिंग मिलेगी। ज्ञात हो कि पिछले सर्वे में पेंच व केरल के पैरीयार को प्रथम रैंक हासिल हुई थी। पार्क अधिकारियों को उम्मीद है कि इस बार भी रैंकिंग में पहले स्थान पेंच टाइगर रिजर्व को मिलेगा। एमइइ टीम में आंधप्रदेश के रिटायर्ड पीसीसीएफ डा जोसफ, झारखंड के रिटायर्ड पीसीसीएफ प्रदीप कुमार व तमिलनाडू के रिटायर्ड पीसीएफ राजीव श्रीवास्तव के अलावा अन्य दो अधिकारी शामिल रहे। उन्होंने पेंच के कोर व बफर एरिया में कैंप, ग्रास मैंनेजमैंट, रेस्क्यू मैनजमेंट व अन्य स्थितियों को देखा। करीब 36 बिंदुओं पर अलग-अलग फार्मेट में पार्क का आंकलन किया।

सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गाइड का मिला राष्ट्रीय पुरस्कारः

पेंच टाइगर रिजर्व के सुभाष भौरे को राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पर सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गाइड का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है। उन्हें यह पुरस्कार विज्ञान भवन नई-दिल्ली में प्रदान किया गया। पार्क प्रबंधन ने इस पुरस्कार पर खुशी जाहिर करते कहा कि एक पारिस्थितिकी तंत्र की तरह जहां सभी संस्थाएं अपनी भूमिका के अनुसार योगदान करती हैं। एक संरक्षित क्षेत्र में सभी संस्थाएं, चाहे वह प्रबंधन हो, सभी स्तरों पर वनरक्षक, पर्यटकए गाइड और ड्राइवर सभी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जब हर कोई अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देता है तो संरक्षित क्षेत्र सर्वश्रेष्ठ बन जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close