सिवनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बैनगंगा शॉपिंग काम्प्लेक्स के पास स्थित प्रायवेट बस स्टैंड का यात्री प्रतिक्षालय इन दिनों देखरेख के अभाव में उपेक्षा का शिकार है। यहां बसों के इंतजार में पहुंचने वाले यात्रियों को पेयजल समेत अन्य समस्या से जूझना पड़ रहा है। वहीं दरवाजों, खिड़कियों में लगे शीशों के टूटे होने के कारण यात्रियों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। रात में कड़ाके की ठंड व शीत लहर में यात्रियों को दिक्कतें उठानी पड़ती हैं।

प्रायवेट बस स्टैंड की अव्यवस्थाओं से यात्री खासे परेशान हैं। यात्री मनोज यादव, शिवकली बाई, विक्की इड़पाचे,आनंद बरकड़े आदि यात्रियों ने बताया कि यात्री प्रतिक्षालय में साफ-सफाई नहीं है। प्रतीक्षालय भवन भी जर्जर हालत में है। इसके खिड़की दरवाजे टूटे हुए हैं।भवन की देखरेख नहीं होने से यात्रियों को जरुरी सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। न तो बैठने के लिए आरामदायक कुर्सियां हैं न ही परिसर में यात्रियों के लिए सुविधाएं हैं।इस मामले की शिकायत भी अधिकारियों से कई बार की जा चुकी है लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं देता है।वहीं यात्रियों ने बताया कि पंखों की पंखुड़ियों को भी असमाजिक तत्वों ने तोड़ मरोड़ कर क्षतिग्रस्त कर दिया है।

बंद पड़े हैं नल

प्रायवेट बस स्टैंड के प्रवेश द्वार के पास पीने के पानी की व्यवस्था तो की गई है लेकिन यात्री प्रतिक्षालय के निर्माण के समय जिस स्थान पर पेयजल के लिए नल लगाकर पानी की उचित व्यवस्था की गई थी वह कई वर्षों से बंद पड़ी है। इसके कारण यात्रियों को पानी की समस्या से काफी जूझना पड़ता है।

नियम विरुद्ध खड़ी रहती हैं बसें

बस स्टैंड में बसों के छूटने के निर्धारित समय से कुछ समय पहले अपनी बसों को स्टैंड में लगाने और सवारियों को भरने की व्यवस्था बनाई गई है लेकिन यहां अनेक बस मालिक अपनी बसों को रात व दिन में कई घंटें तक यहीं खड़ी करते हैं।स्टैंड परिसर को बसों की पार्किंग व्यवस्था के रूप में उपयोग किए जाने के चलते सवारी बसों को लेकर यहां पहुंचने वाली बसों के चालकों को बस के खड़े किए जाने के लिए उचित स्थान नहीं मिलता व बसों के आवागमन में भी खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

फैली रहती है गंदगी

बस स्टैंड के आसपास गंदगी, कचरा व वाहनों के सुधार कार्य का कचरा, कीट, ग्रीस आदि फेके जाने से वहां हमेशा गंदगी बनी रहती है।गंदगी, दुर्गंध से यात्रियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। यात्रियों, नागरिकों ने प्रशासन से मांग की है कि शीघ्र ही प्रायवेट बस स्टैंड की व्यवस्थाओं में सुधार कार्य किया जाए।

इस मामले में नगरपालिका के स्वच्छता प्रभारी विकास मेहरा का कहना है कि बस स्टैंड में सफाई कराई जाएगी।यहां गंदगी फैलाने वालों को समझाइश भी दी जाएगी।

सड़क पर खड़ी हो रही बसें, फैल रही अव्यवस्था

शहर के सरकारी व प्रायवेट बस स्टेंड में फिर से अव्यवस्था बढ़ गई हैं। इसके अलावा शहर की सड़कों पर बसों के रुकने के कई अघोषित स्टेंड बन गए हैं। इस अव्यवस्थाओं का सीधा असर शहर के यातायात पर पड़ रहा है। दिन में कई बार जाम की स्थिति बनती बनते रहती है।वहीं बस स्टेंड में एंजेटों की संख्या काफी बढ़ गई है। वाहन चालक, परिचालक और एजेंट बिना परिचय पत्र, बिना वर्दी के नजर आते हैं। लगभग तीन साल पहले तत्कालीन एसपी एके पांडेय ने इस व्यवस्था में सुधार किया था, लेकिन उनके तबादले के बाद फिर से व्यवस्थाएं पुराने ढर्रे पर आ गई। बस स्टेंड में एक एक मुसाफिर के लिए एजेंटों के बीच विवाद की स्थिति बनती रहती है।

शहर में सरकारी और प्रायवेट दो बस स्टेंड हैं लेकिन इसके अलावा भी शहर में अनेक स्थानों पर बसें रुकती हैं और मुसाफिरों को चढ़ाती उतारती हैं। बस स्टेंड से निकलने वाली जबलपुर-मंडला रोड की बसें दलसागर, जनपद, गांधी भवन, ज्यारत, बरघाट नाका, डूंडासिवनी आदि स्थानों पर रुकती हैं। वहीं छिंदवाड़ा नागपुर रोड की बसें बस स्टेंड से निकलने के बाद शहर में उर्दू स्कूल के सामने, महावीर मढ़िया, छिंदवाड़ा चौक आदि स्थानों में रुकती हैं। इससे जाम की स्थिति बनती रहती है। शहर में आने वाली कई बसें स्टेंड के भीतर ही नहीं जाती है। खासकर भोपाल, इंदौर, रायपुर आदि से आने-जाने वाली बसें देर शाम और सुबह उर्दू स्कूल, दलसागर के सामने खड़ी रहती हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close