छपारा (नईदुनिया न्यूज)। नगर परिषद छपारा के कचरा वाहन पिछले 1 सप्ताह से नगर से निकलने वाला गीला-सूखा कचरा नगर की बेनगंगा नदी के किनारे मौक्षधाम-कब्रिस्तान पर लाकर फेंक रहे हैं।इससे लोगों में आक्रोश व्याप्त है।क्षेत्र के लोगों ने नगरपरिषद से यहां सफाई कराने व कचरा नहीं फैंके जोने की मांग की है।

स्थानीय लोगों ने इंटरनेट मीडिया पर बेनगंगा नदी के किनारे मौक्षधाम-कब्रिस्तान पर कचरा फैंके जाने की फोटो डालकर कडे़ शब्दों में निंदा की है।लोगों का कहना है कि नगर परिषद व स्थानीय प्रशासन को बेनगंगा नदी के मौक्षधाम-कब्रिस्तान पर कचरा नहीं फैंका जाना चाहिए।

गांव में हुआ कचरा फैंके जाने का विरोध

नगर परिषद द्वारा कचरा वाहनों से नगर से लगभग आधा किलोमीटर दूर जामुनपानी व बंजर गांव के समीप बनाया गया डंपिंग यार्ड में लगभग डेढ़ वर्ष से कचरा डालने का कार्य किया जा रहा था।इसका समय-समय क्षेत्रीय ग्रामीण विरोध प्रदर्शन करते रहे।बीते 5 अगस्त को जब नगर परिषद, स्थानीय प्रशासन के अधिकारी, नगर परिषद के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद के निर्वाचन में व्यस्त थे, उस समय नगर परिषद के वाहनों द्वारा डंपिंग यार्ड के गेट के पास ही कचरा डालना शुरू कर दिया गया।इसका फिर क्षेत्रीय ग्रामीणों ने विरोध किया।इस पर स्थानीय प्रशासन व नगर परिषद के अधिकारियों के नहीं पहुंचने से क्षेत्रीय जनों ने डंपिंग यार्ड के गेट पर अपना ताला जड़ दिया और उसे नहीं खोलने की चेतावनी दी।इसके बाद नगर परिषद द्वारा नगर से निकलने वाला कचरा वाहनों में एकत्रित कर नगर के मोक्षधाम और कब्रिस्तान बेनगंगा तट से लगी हुई जमीन पर डाला जाने लगा।अब यहां भी कचरा फैंके जाने का विरोध होने लगा है।

इनका कहना है

बंजर के ग्रामीणों को मामले को सुलझाने के लिए नगर परिषद बुलाया गया था।वहीं ग्रामीण ग्राम सभा बैठक का हवाला देकर नहीं पहुंचे।बेनगंगा नदी के मौक्षधाम-कब्रिस्तान पर कचरा फैंके जाने के मामले में सभी से राय ली जाएगी।

श्याम गोपाल भारती,

सीएमओ, नगर परिषद छपारा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close