सिवनी/ कहानी (नईदुनिया न्यूज)। आदिवासी ब्लाक घंसौर के अगरिया कला गांव में कुएं का दूषित पानी पीने से उल्टी-दस्त (डायरिया) बीमारी का प्रकोप देखा जा रहा है। इस गांव की 80 साल की वृद्ध महिला भागवती पति धनीराम परते की मौत हो गई है। गांव के लोग महिला की मौत डायरिया से होने की बात कह रहे हैं जबकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इस बात से इनकार कर रहे हैं।वहीं गांव के 80 से अधिक महिला पुरूष व बच्चे बीमार हो गए हैं। उल्टी- दस्त की शिकायत पर इनमें से 32 बीमार ग्रामीणों को उपचार के लिए घंसौर अस्पताल में भर्ती किया गया है।कुछ गंभीर मरीजों को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। गांव में भी स्वास्थ्य विभाग की टीम को भेजकर जांच व दबाएं दी जा रही हैं।अस्पताल में भर्ती सभी बीमार ग्रामीणों की उम्र 30 साल से ज्यादा की बताई जा रही है।

गांव में बंद है नलजल योजना, कुएं का पानी पी रहे ग्रामीण

गांव के रोजगार सहायक राजेश ने बताया है कि अगरिया कला गांव में नलजल योजना बंद है।करीब 500 की आवादी वाले इस गांव के लोग कुएं से ही पीने व अन्य निस्तार के लिए पानी की व्यवस्था करने के लिए मजबूर हो रहे है।वर्षा होने के कारण कुएं का पानी दूषित हो गया है और इसी दूषित पानी को पीने के कारण गांव में उल्टी-दस्त (डायरिया) का प्रकोप देखा जा रहा है।सोमवार सुबह से ही गांव के लोग उल्टी-दस्त से पीड़ित दिखाई दिए।

कुछ को सिवनी, तो कुछ मरीजों को जबलपुर ले गए स्वजन

सोमवार की सुबह 7.30 बजे से ही गांव में डायरिया का प्रकोप बढ़ने से अफरा-तफरीर का माहौल बन गया।लगातार उल्टी-दस्त होने व दबाओं के बाद भी आराम नहीं लगने पर कुछ मरीजों के स्वजन मरीज को लेकर सिवनी व कुछ जबलपुर चले गए हैं।वहीं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र घंसौर में 32 बीमारों को भर्ती कराया गया है।घंसौर बीएमओ भारती सोनकेसरिया ने बताया है कि सभी मरीजों की हालत में सुधार हो रहा है।

सिवनी व घंसौर से पहुंचा स्वास्थ्य अमला

घटना की जानकारी मिलते ही सिवनी से स्वास्थ्य अमला अगरिया कला गांव पहुंच गया है।घंसौर अस्पताल से भी स्वास्थ्य कर्मिओं व एएनएम को भेजा गया है।सीएमएचओ डाक्टर राजेश श्रीवास्तव के अलावा अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने भी गांव पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया है।साथ ही गांव में लगाए गए शिविर में सभी का बेहतर उपचार करने व दबाओं का वितरण करने की हिदायद दी गई है।फिलहाल जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाक्टर आरके धुर्वे, एपिडेमियोलाजी रश्मि रेखा व बीएमओ घंसौर भारती सोनकेसरिया मरीजों का उपचार कर रही हैं।

जांच के लिए कुएं के पानी का लिया नमूना

गांव में उल्टी-दस्त से बीमार ग्रामीणों की संख्या लगातार बढ़ने के बाद पीएचई विभाग के अमले ने गांव पहुंचकर कुएं के पानी का नमूना जांच के लिए लिया है।साथ ही ग्रामीणों को पानी की जांच पूरी होने तक कुएं का पानी नहीं पीने की समझाइश दी गई है।

इनका कहना है

अगरिया कला गांव में दूषित पानी पीने से उल्टी-दस्त से गांव के कई ग्रामीण बीमार हुए हैं।घंसौर अस्पताल में 32 मरीजों को भर्ती किया गया है।सभी की हालत में सुधार हो रहा है।गांव में भी उपचार किया जा रहा है।-डाक्टर भारती सोनकेसरिया, बीएमओ, घंसौर

सिवनी से भी स्वास्थ्य अमले को जरूरी दबाओं के साथ भेजा गया है।गांव में शिविर लगाकर मरीजों का उपचार किया जा रहा है।जिस बुजुर्ग महिला की मौत डायरिया से होने की बात सामने आ रही है उस महिला को उल्टी-दस्त नहीं हुए थे।महिला को हार्ट व रक्तचाप की बीमारी थी।संभवतह हार्ट अटैक होने से महिला की मौत हुई है।-डाक्टर राजेश श्रीवास्तव,सीएमएचओ, सिवनी

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close