सिवनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कृषि उपज मंडी समिति ने नगपुर रोड स्थित थोक फल व सब्जी मंडी में हुए अतिक्रमण हटाने नोटिस जारी जारी किया है।इसमें कब्जा करने वालो को शनिवार की दोपहर 12 बजे तक का समय दिया गया था।इसके खिलाफ मंडी के दुकानदार एकजुट हो गए हैं। सिवनी सब्जी व्यापारी संघ व सिवनी फल व्यापारी संघ ने इस पर आपत्ति दर्ज कराई है।शनिवार को सभी ने मंडी के प्रवेश द्वार पर एकत्रित होकर विरोध दर्ज किया।साथ ही मंडी प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

दुकानदारों का कहना है कि मंडी प्रशासन उच्च न्यायालय के निर्देशों की अवमानना कर रहा है।व्यापारियों ने कृषि उपज मंडी समिति पर भूमि व संरचना के आवंटन में नियम-2009 के उल्लंघन का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि नियम और उप नियमों के खिलाफ पांच जनवरी 2022 की भूमि व संरचना के आवंटन की निविदा प्रक्रिया की गई है। इसका खुलासा जन सूचना अधिकार अधिनियम से मिली जानकारी से हुआ है। उक्त आवंटन के नियम-3 व उप नियम-4 के अनुसार एक अनुज्ञप्तिधारी को एक से अधिक भूखंड का आवंटन नहीं किया जा सकता है। इसके विपरित निविदा प्रक्रिया करते हुए भू-खंड क्रमांक 4 बी के दुकान भूखंड 12 व 14 में सुनील भोजवानी का नाम प्रस्तावित करके उक्त नियम का उल्लंघन मंडी समिति ने किया है।

दुकानदारों का कहना है कि अभी वर्षा का समय चल रहा है। दुकानों में किसानों के माल पड़े हैं। सब्जी की आवक-जावक भी जारी है। कार्रवाई से माल के खराब होने की पूरी संभावना है। ऐसे में यदि कार्रवाई हुई तो मंडी में अप्रिय घटना निर्मित होने की संभावना हैं। इसके लिए मंडी प्रशासन जिम्मेदार होगा। व्यापारी इसके खिलाफ उग्र आंदोलन करेंगे।

सब्जी व्यापारी संघ अध्यक्ष दौलत राम ने बताया कि वर्ष 2019 से शहर में लगने वाली दुकानों को वहां से हटाकर नागपुर रोड स्थित थोक सब्जी मंडी में शिफ्ट किया गया था। यहां शासन प्रशासन ने अस्थाई तौर पर भूखंड बनाकर व्यापार किए जाने की स्वीकृति भी दी थी। इसके चलते सभी व्यापारी अपना व्यापार कर रहे थे। लगभग 60 व्यापारी यहां अपना व्यापार कर रोजी-रोटी चला रहे हैं। हाल ही में 3 अगस्त को मंडी प्रशासन ने नोटिस जारी किया है। इसमें बताया गया कि 6 अगस्त तक दुकानदार अपनी दुकानें यहां से हटा लें। इस मामले में दुकानदारों का कहना है कि जब शासन-प्रशासन ने उन्हें यहां जगह दी है तो दुकानदार अतिक्रमणकारी कैसे कहलाएंगे। उन्होंने बताया कि इस मामले को लेकर कलेक्टर से शुक्रवार को लिखित शिकायत भी की गई। शनिवार को हमने संकेतिक रूप से धरना प्रदर्शन दिया है। अगर उनकी बात नहीं मानी गई तो उन्हें उग्र आंदोलन करने मजबूर होना पड़ेगा।

इनका कहना है

हम कोर्ट के आदेश का पालन कर रहे हैं। आदेश के तहत निविदा जारी करने कहा गया था। इसके तहत ही यह काम किया गया है। यदि कब्जा करने वालों ने दुकानें नहीं हटाई तो शासन प्रशासन द्वारा सख्ती बरती जाएगी।

विनोद बेग,

सचिव, कृषि उपज मंडी सिवनी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close