सिवनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। केंद्र व राज्य की सरकारें स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए करोड़ो रुपये खर्च कर रही हैं। वहीं बरघाट मुख्यालय में नवीन सिविल अस्पताल का निर्माण जारी है। वर्तमान स्थिति में पुराने भवन में ही दुर्घटना व अन्य कारणों से मृत हुए व्यक्तियों का पोस्टमार्टम खुले आसमान के नीचे किया जा रहा है।

दरअसल वर्षों से पोस्टमार्टम करने के लिए बनाया गया शव गृह क्षतिग्रस्त हो चुका है।इसकी मरम्मत करने के लिए पदस्थ विकासखंड चिकित्सा अधिकारियों ने गंभीरता से ध्यान ही नहीं दिया। विगत 4 जूलाई को एक ऐसा ही प्रकरण सामने आया जहां सुदीप सिंगाम पुत्र दिनकरराव सिंगाम (32) निवासी वार्ड क्र 3 बरघाट की अज्ञात कारणों से मौत हो गई थी।उसके शव का पोस्टमार्टम पुलिस की अनुशंसा पर सिविल अस्पताल बरघाट में खुले आसमान के नीचे कर दिया गया।

क्षतिग्रस्त शव गृह का निर्माण सांसद व विधायक निधि से आसानी से करवाया जा सकता है, लेकिन इस ओर ना तो क्षेत्रीय सांसद ढालसिंह बिसेन ने कोई ध्यान दिया और ना ही बरघाट विधायक अर्जुनसिंह काकोडिय़ा ने कोई आर्थिक मदद की।इस मामले में जब विकासखंड चिकित्सा अधिकारी से चर्चा की गई तो उन्होने बताया कि क्षतिग्रस्त शव गृह की मरम्मत कराने के लिए कलेक्टर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, क्षेत्रीय सांसद व विधायकों को पत्र लिख अवगत कराया जा चुका है, लेकिन किसी ने भी इस मामले में संज्ञान नही लिया है। मानवता को शर्मसार करने वाला यह परिदृश्य स्पष्ट करता है कि कैसे जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं का संचालन करोड़ों के बजट वाले मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय द्वारा किया जा रहा है।

इनका कहना है

पोस्टमार्टम के लिए बना शव गृह जर्जर हो चुका है। शेड निर्माण के लिए एसडीएम बरघाट से अनुमति मिलने के बाद निर्माण के लिए स्वीकृति दे दी गई। जल्द ही शेड निर्माण होगा।

उषाश्री पांडे

बीएमओ, बरघाट

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close