सिवनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती मनाना इसलिए महत्वपूर्ण है कि आजादी के आंदोलन में उन्होंने बलिदान दिया और हमें संदेश दिया कि हमको असत्य के सामने झुकना नहीं है। हम कायर नही है और हमें किसी के भय से झुकना नहीं चाहिए बल्कि सत्य का सामना करना चाहिए। यह बात नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125वीं जयंती के पर विधायक दिनेश राय ने कही।

उन्होने इस अवसर पर स्कूल को एक्वागार्ड तत्काल प्रदान करने का आश्वासन देकर 12 कमरों की मांग को भी शीघ्र पूर्ण करने की बात कही। कार्यक्रम के दौरान लैब का अवलोकन अटल टिंकरिंग लैब उद्घाटन व नेताजी सुभाषचंद्र बोस प्रतिमा का अनावरण किया गया।

कार्यक्रम के दौरान अध्यक्षता कर रहे आलोक दुबे ने कहा कि नेताजी का आजादी के आंदोलन में इसलिए विशेष महत्व है क्योंकि उन्होने विदेशों में भी अपनी आजाद हिन्द फौज के माध्यम से अनेक राष्ट्रों को आजाद कराया। उन्होने बताया कि देश को आजादी एक दिन में नही मिली बल्कि इसके लिए अनेक लोगों ने अपना बलिदान दिया। जनपद सिवनी अध्यक्ष प्रतीक्षा राजपूत ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि उनकी दी हुई सीख पर सब चलें और अंतिम छोर के व्यक्ति का शासन की योजनाओं का लाभ मिल सकें।

कार्यक्रम का संचालन विजय शुक्ला, अकीला खान, शिखा कार्तिकेय ने किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में कन्या पूजन के अंतर्गत लावन्या धुर्वे, सानवी धुर्वे, अक्षिता बिसेन, प्रथमा धुर्वे, अनुष्का मिश्रा, निवेदिता डहेरिया का पूजन अर्चन किया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान स्वालेहा खान ने देशभक्ति की प्रस्तुति हर्षिता सनोड़िया, आदित्य दुबे, भूमिका नायक, पायल चौरसिया, नीलम परते ने दी। इस अवसर पर स्कूल के मेधावी छात्र-छात्राओं का सम्मान किया गया। साथ ही जनशिक्षा केन्द्र अंतर्गत इंस्पायर अवार्ड से राज्य स्तर से चयनित छात्र-छात्राओं को भी प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

नेताजी को श्रद्धासुमन अर्पित कर की संगोष्ठी

सिवनी। नेताजी सुभाषचंद्र बोस शासकीय गर्ल्स कॉलेज में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। कार्यक्रम का शुभारंभ कॉलेज की प्राचार्या प्रो डॉ अमिता पटेल ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के छायाचित्र पर माला अर्पण किया। अपने उद्बोधन में प्राचार्या ने सुभाष चंद्र बोस के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि नेताजी ने अपने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान कॉलेज परिसर में जो उस युग में एक जेल हुआ करता था, यहां कुछ समय बिताया है। कॉलेज में उनकी याद में राष्ट्रीय स्मारक है, जो हमारे लिए सौभायशाली बात है। डॉ.अर्चना चंदेल ने नेताजी के सिद्धांतों से प्रेरणा लेकर देश के लिए कुछ कर गुजरने के लिए छात्राओं को प्रेरित किया। बीएस बघेल ने बताया कि शासन ने नेताजी की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया। उन्होंने नेताजी की आजादी हिन्दी फौज व उनके स्वतंत्रता संग्रमा पर प्रकाश डाला। डॉ.शाहेदा खान ने भी नेताजी की जीवनी पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में समस्त प्राध्यापकगण ने नेताजी की स्मारक पर भी पुष्प अर्पण किया। कार्यक्रम में कल्पना इंगले, एनएसएस प्रभारी डॉरूचिका यदु, पंकज शेंडे, ओम प्रकाश सरवैया, डॉ एसआर नावंगे, डॉ टीकाराम सनोडिया, डॉ अनीता भट्ट, नेहा सोनी, नीतू दुर्ग आदि की उपस्थिति थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags