धूमा (नईदुनिया न्यूज)। यूरिया खाद के लिए जिले भर में किसानों को भटकना पड़ रहा है। जिला प्रशासन व कृषि विभाग जिले की 57 समितियों में पर्याप्त यूरिया खाद भंडारित होने का दावा कर रहा है। जबकि वास्तविकता दावों से कोसों दूर है। एक-एक बोरी यूरिया के लिए किसान महीनों से इंतेजार कर रहे हैं। स्थिति यह है कि नेशनल हाईवे पर स्थित धूमा आदिम जाति सेवा सहकारी समिति में 46 दिनों से यूरिया खाद नहीं है। सैकड़ों किसानों के परमिट तो समितियों ने काट दिए हैं लेकिन यूरिया की खेप नहीं मिलने से समिति के कर्मचारी भी परेशान हो रहे हैं। यूरिया खाद किसानों को नहीं मिलने के मामले में कांग्रेस नेताओं ने भी शासन प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि विपणन विभाग के कर्मचारी कमीशन देने वाली समितियों को ही यूरिया खाद का उठाव दे रहे हैं। अन्य समितियों तक यूरिया खाद नहीं भेजी जा रही है इसके कारण किसानों को दोगुने दाम पर यूरिया खाद खरीदनी पड़ रही है।

डिमांड के बाद भी नहीं भेजी यूरिया-धूमा आदिम जाति सेवा सहकारी समिति द्वारा किसानों की डिमांड को देखते हुए यूरिया खाद की मांग जिला मुख्यालय को पहली भेजी जा चुकी है लेकिन 46 दिन बीत जाने के बाद भी समिति को एक बोरी यूरिया भी विपणन विभाग व गोदाम प्रभारी द्वारा नहीं दी गई है। धूमा के कांग्रेस नेता यत्येंद्र हीरा चौकसे का कहना है कि विपणन विभाग के कर्मचारियों की मिलीभगत से अन्य समितियों को खाद का वितरण किया जा रहा है। गनेशगंज सहकारी समिति को 10 ट्रक यूरिया खाद कुछ दिन पहले दी गई है जबकि धूमा समिति में 46 दिनों से एक बोरी यूरिया भी वितरण के लिए नहीं पहुंचा है। इस मामले की शिकायत लखनादौन एसडीएम से भी की गई है।

बर्बाद हो जाएंगी फसलें-क्षेत्र के किसानों का कहना है कि खरीफ में लगी फसलों को समय पर यूरिया खाद नहीं मिली तो खड़ी फसलें बर्बाद हो जाएंगी। धान व मक्का में इस समय यूरिया छिड़काव की जरूरत है लेकिन समितियों में कई चक्कर लगाने के बाद भी क्षेत्र के किसानों को यूरिया खाद नहीं मिल रहा है। वहीं विपणन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि डबललॉक गोदामों में यूरिया का स्टाक समाप्त हो चुका है। इसके कारण समितियों की सप्लाई र्स्की हुई है। रैक से यूरिया का उठाव मिलने के बाद समितियों को खाद का वितरण किया जाएगा। भोपाल से भी यूरिया की कमी पर मॉनीटरिंग हो रही है। जल्द ही किसानों को यूरिया उपलब्ध कराया जाएगा।

समिति द्वारा पहले ही जिला मुख्यालय को यूरिया उपलब्ध कराने डिमांड भेजी जा चुकी है लेकिन जिले से यूरिया खाद का उठाव नहीं हो रहा है।

पीएन पांडे प्रबंधक

आदिम जाति सेवा सहकारी समिति धूमा

46 दिनों से क्षेत्र के किसान समिति में यूरिया पहुंचने का इंतेजार कर रहे है। वर्तमान में किसानों को यूरिया की आवश्यकता है। आपूर्ति ना होने पर किसानों की फसल बर्बाद हो जाएगी।

यत्येंद्र हीरा चौकसे, कांग्रेस नेता धूमा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local