छपारा/सिवनी, नईदुनिया न्यूज। प्रायमरी स्कूल मटामा में सोमवार को विस्फोट के बाद जांच करने पहुंचे बम निरोधी दस्ते व एफएसएल टीम ने मौके से मिली विस्फोटक व अन्य संदिग्ध सामग्रियों को सील कर जब्त कर लिया है। जब्त सामग्री की लैब में जांच की जा रही है।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जांच रिपोर्ट मिलने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि विस्फोटक किस तरह का है और इसमें किस कारण से धमाका हुआ है। मंगलवार को पुलिस ने मटामा गांव व आसपास के क्षेत्र में तफ्तीश कर घटना से जुड़े साक्ष्य जुटाने की कोशिश की। वहीं विस्फोट से जुड़ी सामग्री बच्चों को कहां और कैसे मिली थी इसका पता लगाने में भी पुलिस जुटी हुई है।

इधर अस्पताल में भर्ती कराए गए घायल तीन छात्रों में से एक गंभीर घायल अखलेश झारिया (9)को मेडिकल कालेज जबलपुर रेफर कर दिया गया है। जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ विनोद नावकर ने बताया कि अस्पताल में नेत्र स्पेशलिस्ट ना होने के कारण अखलेश को बेहतर इलाज के लिए देर रात जबलपुर मेडिकल भेज दिया गया है। विस्फोट से अखलेश की आंख के ऊपरी हिस्से व सिर में गंभीर चोटें आई हैं। जबकि अन्य दो छात्र मुकेश मरावी (8) और मालती साहु (9) का जिला अस्पताल में इलाज जारी है जिनकी हालत सामान्य बताई गई है।

मौके से विस्फोटक सामग्री मिली है। हालाकि इस मामले में पुलिस खुलकर कुछ नहीं बता रही है। पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर मामले को जांच में ले लिया है। संभावना जताई जा रही है कि खदान व कुओं में विस्फोट के लिए इस्तेमाल होने वाली सामग्री स्कूल जाते वक्त बच्चों के हाथ लग गई। घायल बच्चों के मुताबिक सड़क किनारे उन्हें सैलनुमा बैटरी मिली थी। इसी बैटरी के तार जोड़कर वे खेल रहे थे तभी उसमें विस्फोट हो गया।

स्कूल पहुंचे छात्र, हुई पढ़ाई-छपारा बीआरसी गोविंद उइके ने बताया कि मंगलवार को स्कूल में आम दिनों की तरह छात्र पहुंचे और शिक्षकों ने छात्रों को अध्यापन कराया। सुबह करीब 10 बजे उन्होने स्कूल का निरीक्षण भी किया। सोमवार को जांच पूरी करने के बाद पुलिस व अन्य टीमें मटामा स्कूल से लौट गईं हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network