छपारा/सिवनी, नईदुनिया प्रतिनिधि। मटामा के प्रायमरी स्कूल में सोमवार सुबह स्कूल के शिक्षक पालक शिक्षक संघ चुनाव की तैयारी कर रहे थे। इसी दरम्यान उन्होंने एक क्लासरूम से जोरदार धमाके की आवाज सुनी। विस्फोट की आवाज सुनकर शिक्षक भी दहल गए। जब शिक्षक क्लासरूम पहुंचे तो वहां मौजूद चौथी कक्षा के तीन छात्र घायल अवस्था में मिले। घायल छात्रों व परिजन के मुताबिक तीनों छात्र क्लासरूम में सेलनुमा बैटरी से खेल रहे थे।

इसी दरम्यान सेल से तार जोड़कर बच्चों ने इसे इलेक्ट्रिक स्विच में लगा दिया जिससे बैटरी में जोरदार विस्फोट हो गया। हादसे में छात्रा मालती साहू (9), अखिलेश झारिया (9) व मुकेश मरावी (8) गंभीर रुप से घायल हो गए हैं। घायल छात्रों को छपारा अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है।

यहां तीनों छात्रों का इलाज जारी है। सेलनुमा बैटरी मे हुए विस्फोट को लेकर भी कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। पुलिस प्रशासन ने इस मामले में पूरी तरह चुप्पी साध रखी है। वहीं इस मामले में प्रारंभिक तौर पर शिक्षा विभाग की लापरवाही भी नजर आ रही है।

विस्फोटक उठा लाए छात्र - मटामा स्कूल में हुए विस्फोट का लोग अलग अलग कारण बता रहे हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक कुएं व खदान में ब्लास्टिंग के लिए इस्तेमाल डायनामाइट विस्फोट ब्लास्टिंग कैप के टुकड़े छात्रों को कहीं से मिल गए थे। जिसे लेकर छात्र स्कूल पहुंच गए और छात्र सेलनुमा बैटरी से इस कैप को जोड़ रहे थे। इसी दरम्यान बैटरी में धमका हो गया। वहीं छात्रों का कहना है कि वे सेलनुमा बैटरी में तार लगाकर उससे बल्ब जलाने का प्रयास कर रहे थे। इसी दरम्यान बैटरी में विस्फोट हो गया। हादसे में छात्रों के हाथ की अंगुली व चेहरे में चोटें आई हैं।

जांच करने पहुंची एफएसएल व बम निरोधी दस्ता- हादसे के बाद क्लासरूम में बैटरी व अन्य संदिग्ध वस्तुएं देखकर पुलिस प्रशासन भी सकते में आ गया। मौके पर पहुंचे जनपद सीईओ बीडी चौधरी, छपारा थाना प्रभारी नीलेश परतेती, लखनादौन एसडीओपी अरविंद श्रीवास्तव की मौजूदगी में स्कूल के कमरे को सील कर दिया गया। बाद में जबलपुर से पहुंचे बम निरोधी दस्ते व नरसिंहपुर, सिवनी की एफएसएल टीम ने घटना स्थल का जायजा लिया।

मौके पर डॉग स्क्वॉड ने पहुंचकर भी जांच की। टीमें क्लासरूम में विस्फोट क्यों और कैसे हुआ इसका पता लगा रही हैं। अधिकारियों का कहना है कि जांच के बाद ही विस्फोट का सही कारण स्पष्ट हो सकेगा। प्रारंभिक तौर पर पेंसिल सेल से विस्फोट की बात सामने आई है। पुलिस व अन्य एजेंसियां इस मामले में जांच कर रही हैं। छात्र सेल व अन्य सामग्री कहां से लेकर स्कूल पहुंचे थे इसकी तफ्तीश भी की जा रही है।

बढ़ सकती थी घायल छात्रों की संख्या - जानकारी के मुताबिक सोमवार को एसएमसी (पालक शिक्षक संघ ) के चुनाव होने थे। इसलिए प्रायमरी स्कूल के शिक्षक उसकी तैयारियों में लगे थे। स्कूल पहुंचे ज्यादातर छात्र वापस लौट गए थे जबकि घायल तीनों छात्र क्लासरूम में खेल रहे थे। इसी दरम्यान क्लास में विस्फोट हो गया। अगर क्लास में ज्यादा संख्या में छात्र मौजूद होते तो घायलों की संख्या बढ़ सकती थी।

लंबे समय से गैरहाजिर शिक्षक निलंबित - मटामा प्रायमरी स्कूल में विस्फोट के बाद यहां लंबे समय से गैरहाजिर शिक्षक सोमनाथ सिंहोतिया को निलंबित कर दिया गया है। छपारा बीआरसी गोविंद उइके ने बताया कि 9 जुलाई से शिक्षक सोमनाथ स्कूल से गैरहाजिर था। इस मामले में पहले ही प्रतिवेदन वरिष्ठ अधिकारियों को भेजा जा चुका था। सोमवार को हादसे के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारी भी हरकत में आ गए और जुलाई से गैरहाजिर शिक्षक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

इनका कहना है

पेंसिल सेल में विस्फोट के कारण मटामा स्कूल के तीन छात्र घायल हुए हैं। प्रारंभिक तौर पर जानकारी मिली है कि छात्र पेंसिल सेल से खेल रहे थे। फारेंसिक टीम व बम निरोधी दस्ता मामले में जांच कर रहा है। जांच के बाद ही विस्फोट का सही कारण पता चलेगा।

कुमार प्रतीक, एसपी सिवनी

मामले में फारेंसिक टीम जांच कर रही है। इस मामले में फिलहाल कुछ नहीं बताया जा सकता है।अरविंद श्रीवास्तव, एसडीओपी लखनादौन

Posted By: Nai Dunia News Network