सिवनी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। केंद्र सरकार द्वारा गेहूं के निर्यात में रोक लगाने के कारण कृषि उपज मंडियों में गेहूं के भाव गिरकर 250 रुपये तक नीचे आ गए हैं। हालाकि इसके बाद भी किसान गेहूं लेकर मंडी पहुंच रहे हैं लेकिन बोली लगाने वाले व्यापारी नहीं मिल रहे है।मई माह की शुरुआत में गेहूं का भाव 2200 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच गया था, जो गिरकर अब 1950 के करीब आ गया है।26 मई गुरूवार को मंडी में गेहूं 1930 से 1960 रुपये तक खरीदा गया।वहीं निर्यात पर रोक लगने के बाद व्यापारियों के माध्यम से मंडी में खरीदी करने वाली कंपनियों का रूझान घट गया है।ऐसे में गेहूं लेकर किसान समर्थन मूल्य पर उपार्जन के लिए केंद्र पहुंच रहे हैं।इसके बाद भी समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद में तेजी देखने को नहीं मिल रही है। उपार्जन के तीन दिन शेष बचे हैं।

मंडी नहीं आने वाले व्यापारियों की बंद होगी आइडीः कृषि उपज मंडी सिमरिया के प्रांगण प्रभारी टीएस धुवारे ने बताया कि, निर्यात में रोक लगने के बाद मंडी पहुंचने वाले पंजीकृत व्यापारियों की संख्या कम हो गई है।ऐसे में उपज लेकर पहुंच रहे किसानों को गेहूं का सही दाम नहीं मिल पा रहा है।कृषि उपज मंडी क्षेत्र में 40 से 50 गल्ला व्यापारी पंजीकृत है।सभी व्यापारियों को मंडी में बोली में शामिल होने के लिए चेतावनी पत्र मंडी प्रशासक व एसडीएम की ओर से जारी किया गया है।साथ ही बोली में उपस्थित होने मंडी सचिव की ओर से लगातार सूचना दी जा रही है।यदि बोली में व्यापारी शामिल नहीं होते है, तो ऐसे व्यापारियों को चिंहित कर उनकी आइडी ब्लाक करने की कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी।

सायलो में 8 लाख क्विंटल गेहूं की हुई खरीद

उपार्जन के 3 तीन दिन शेष बचे अभी तक जिले में 14990 किसानों ने उपार्जन केंद्रों में समर्थन मूल्य पर 12.90 लाख क्विंटल गेहूं बेचा है।जबकि उपार्जन के लिए 70396 किसानों ने पंजीयन कराया था।गेहूं के दामों में कमी दर्ज होने के बाद भी किसानों का रूझान उपार्जन केंद्रो की ओर दिखाई नहीं दे रहा है।सबसे ज्यादा उपार्जन अभी तक सायलो केंद्रो में हुआ है।यहां पर 8 लाख क्विंटल से ज्यादा गेहूं खरीदा गया है।वहीं गोदाम स्तर पर बने केंद्रों में मात्र 20 हजार क्विंटल गेहूं खरीदा गया है। वहीं समिति स्तर पर बने उपार्जन केंद्रों में 4.20 लाख क्विंटल गेहूं खरीदा जा चुका है।खरीदे गए गेहूं में से 95 प्रतिशत गेहूं को सुरक्षित गोदामों में जमा करा दिया गया है।जिले के ज्यादातर उपार्जन केंद्रों में सन्नााटा दिखाई दे रहा है।समर्थन मूल्य 2015 रुपये प्रति क्विंटल पर किसानों से गेहूं खरीद रही है।इस बार गेहूं खरीद लक्ष्‌य से काफी दूर है।जिले में 4.69 लाख मीट्रिक टन गेहूं उर्पाजन का लक्ष्‌य रखा था लेकिन खरीदी 1.50 मीट्रिक टन तक भी पहुंचती नहीं दिख रही है।

इनका कहना है

जिले में 12.90 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा जा चुका है।उपार्जन केंद्रों में किसान गेहूं उपज लेकर पहुंच रहे हैं।करीब 15 हजार किसान अब तक उपार्जन केंद्र में गेहूं बेच चुके हैं।

नितिन राज भालेकर, जिला विपणन अधिकारी सिवनी

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close