सिवनी(नईदुनिया प्रतिनिधि)। गिद्धों की गणना की प्रारंभिक सर्वे की कार्रवाई की जा रही है। दो चरणों में होने वाली इस गणना के पहले चरण की कार्रवाई शुरु हो चुकी है। इसके तहत 30 नवंबर तक सर्वे का काम किया जाएगा। इसमें वन अमला पर्यावरण विदों के साथ मिलकर ऐसे स्थानों का चिन्हांकन करेगा जहां पर गिद्ध रहते हैं। इस सर्वे की कार्रवाई होने के बाद फरवरी माह में प्रदेश स्तरीय गणना एक ही दिन में सभी क्षेत्रों में एक साथ की जाएगी। हालाकि फरवरी माह में किस तारीख को यह गणना होगी, यह अभी तय नहीं हो पाया है।

दल बनाकर होगा सर्वे- प्रारंभिक सर्वे में कर्मचारी और वन्यप्रेमियों का दल बनाया जाएगा। यह दल गिद्धों के आवास स्थलों की जानकारी जुटाने के लिए जाएगा। सर्वे की जानकारी गूगल फार्म में सबमिट की जाएगी।इस प्रारंभिक सर्वे के बाद आगामी फरवरी माह में प्रदेश स्तरीय गणना होगी।

गणना के लिए दी जाएगी ट्रेनिंग-फरवरी माह में होने वाली गणना के लिए वन अमले को ट्रेनिंग दी जाएगी। इसमें किस तरह से गिद्धों की गणना करना है, यह बताया जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक गणना के पूर्व इस तरह की ट्रेनिंग व प्रारंभिक सर्वे से गणना के काम में आसानी होगी। पिछली गणना के मुताबिक जिले के धूमा क्षेत्र में सबसे ज्यादा गिद्ध पाए जाते हैं। इसके बाद कुरई, केवलारी और सिवनी के आसपास गिद्धों का रहवास है।

इनका कहना है

गिद्धों की गणना दो चरणों में होनी है। पहले चरण में गिद्ध किस स्थान में रहते है, इसका सर्वे किया जा रहा है। साथ ही ट्रेनिंग दी जा रही है। फरवरी माह में दूसरे चरण की गणना होगी।

आरएस कोरी,सीसीएफ, सिवनी

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस