अनूपपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने सोमवार को आदेश जारी करते हुए कहा कि मिट्टी के दीया बेचने आने वाले ग्रामीणों को किसी भी प्रकार की असुविधा ना हो। इसका पूर्ण ध्यान रखने के अधिकारियों को निर्देश दिए। वहीं दीया बनाने वाले प्रजापति समाज के लोगों द्वारा कहा गया कि सरकार इलेक्ट्रिक चाक अनुदान में दे तो और अधिक मात्रा में शीघ्र दिये तैयार कर सकेंगे। मिट्टी खरीदनी पड़ती है। यदि रियायत दर पर मिट्टी उपलब्ध कराई जाए तो उन्हें सहूलियत हो जाएगी। साथ ही कहा गया कि बाजार में एक स्थाई जगह आवंटित कर दी जाए जहां वह अपने सामान रख सकें वापस ले जाने में समस्या आती है टूट-फूट हो जाती है। कलेक्टर ने आदेश में यह कहा है कि दीपावली पर्व के अवसर पर जिले के ग्रामीण व दूर-दराज के अंचलों से मिट्टी के दिया तैयार कर ग्रामीणों द्वारा विक्रय हेतु बाजार में लाया जाता है मिट्टी के दिया बेचने आने वाले इन ग्रामीणों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसका पूर्ण रूप से ध्यान रखा जाए। जिले के सभी नगरीय निकाय व ग्रामीण पंचायत क्षेत्र में इनसे किसी प्रकार की कर वसूली ना की जाए इसके साथ ही मिट्टी के दीयों का उपयोग अधिक से अधिक हो इसको लेकर प्रोत्साहित करने व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। कलेक्टर ने इस आदेश का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित करने तथा आदेश तत्काल से प्रभावशील किया है।

बाजार बैठकी का कोई शुल्क नहीं लगेगा- दीपावली के नजदीक आते ही दीया की दुकानें सजने लगी हैं अभी तक इन दुकान लगाने वालों से नगर पंचायत व नगर पालिका द्वारा प्रतिदिन बाजार बैठकी शुल्क लेती थी। कलेक्टर के आदेश के बाद अब इनसे बैठकी नहीं ली जाएगी। इस आदेश के बाद दीया की दुकानें लगाने वालों में हर्ष है। उनका कहना था कि दीया बनाने व बेचने पर इतनी अच्छी आमदनी नहीं हो पाती लेकिन टैक्स छूट के साथ मिट्टी के दीये उपयोग में लिए जाने का अच्छा प्रचार-प्रसार हो तो वह अच्छा व्यापार कर सकेंगे और उनकी दीपावली भी दूसरों के जैसे ही रोशन हो सकेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network