शहडोल। जिले के बाणसागर बांध में नाव चलाने की तैयारी चल रही है। इसके बाद जल मार्ग से आवागमन शुरू हो जाएगा,जिससे बांध के आर-पार सीमा में बसे गांवों की दूरी 100 से 200 किलोमीटर तक कम हो जाएगी।बीस गांवों के तकरीबन पचास हजार लोगों की राह आसान होगी।बांध में पहले से तैयार जल मार्ग में नावों का संचालन किया जाएगा।इसको लेकर शासन को प्रस्ताव भेजा गया है।बांध में पहले से एक दर्जन जलमार्ग तय है। इन निर्धारित स्थानों पर वाटर जेट्टी टर्मिनल, बुकिंग आफिस व प्रतिक्षालय बनकर तैयार है।अब नियमित नावों के संचालन करना है, जिसके लिए शहडोल कमिश्नर राजीव शर्मा ने शासन को प्रस्ताव भेजा है।नाव का संचालन होने से व्यापारिक और सामाजिक संबंध बढ़ जाएंगे, जो बांध बनने के बाद बंद हो गए थे। प्रदेश में पहली बार ऐसा होगा जब किसी बांध में इस तरह की सुविधा चालू होगी।

सवा लाख लोग हुए थे प्रभावित-

बाणसागर बांध बनने से शहडोल,उमरिया, सतना, कटनी जिले के 336 गांवों के करीब सवा लाख लोग प्रभावित हुए हैं। इनमें 79 गांव तो पूरी तरह बांध में डूब क्षेत्र चले गए। डूब क्षेत्र में आए 15 हजार परिवारों को बांध के आसपास 17 मंडल डाउन विकसित कर विस्थापित किया गया, जबकि चालीस हजार से अधिक परिवार दूसरे स्थानों में चले गए।बांध बनने से पहले ये लोग रोजगार, खेती किसानी, व्यापार आदि के पीढ़ियों से एक दूसरे पर निर्भर थे। सभी एक-दूसरे के गांवों में आना-जाना करते थे, लेकिन बांध बनने के बाद दूरी बढ़ गई।

प्रोजेक्ट पर काम भी हुआ था-

बाणसागर बांध के कारण विस्थापित हुए लोगों का संपर्क आसानी से हो इसके लिए 2006 में केंद्र सरकार इन लैंड वाटर टांसपोर्ट जलर्माग प्रोजेक्ट तैयार किया था। इसके तहत बांध के आसपास के बीस गांवों के लिए जलमार्ग तैयार किया था।इन गांवों में न्यू रामनगर, न्यू बरौधा, ऊंचाटोला,सरसी, टिकुरी टोला,पड़खुरी, भरेवा, न्यू सपटा,अमिलिहा, न्यू मिरगौती, मौदहा आदि शामिल हैं। 2006 से 2013 के दौरान 13 वाजर जेट्टी टर्मिनल, यात्री प्रतिक्षालय की सुविधाएं तैयार की गई थीं, लेकिन बीच में ही प्रोजेक्ट रुक गया।

वर्जन-

बाणसागर बांध में जलमार्ग शुरू कराने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा है। पहले से चिहिंत जलमार्गों के लिए सुविधाएं तैयार की जाएंगी।हमारा प्रयास होगा कि जल्दी जलमार्गों पर नाव चलने लगे।प्रदेश में पहली बार होगा जब किसी बांध में इस तरह की सुविधा होगी।

राजीव शर्मा, कमिश्नर संभाग शहडोल

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local