शहडोल (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोतवाली शहडोल में पदस्थ सहायक उप निरीक्षक अरविंद दुबे को लोकायुक्त रीवा की टीम ने 9 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़कर ट्रेप किया है। यह कार्रवाई शुक्रवार की दोपहर की गई है। लोकायुक्त रीवा डीएसपी राजेश पाठक ने बताया कि पांडवनगर शहडोल निवासी एकांश सिंह ने लोकायुक्त एसपी को शिकायत किया था कि मारपीट के मामले कोतवाली पुलिस ने उसकी कार को जबरन जब्त कर लिया है। अब कार छोड़ने के एवज में दस हजार रुपये मांगा जा रहा है। एक हजार दे भी दिए गए हैं। इसके बाद कहा जा रहा है कि 9 हजार रुपये देने के बाद ही कार मिलेगी। इस मामले में सहायक उप निरीक्षक को 9 हजार रुपये देने की बात हुई है। पैसा लेकर कार छोड़े जाने की बात कही जा रही है।

शिकायत कर्ता ने बताया कि वह रुपये नहीं देना चाहता है लेकिन उससे अनिधिकार रुपयों की मांग की जा रही है। इसके बाद लोकायुक्त की टीम कार्रवाई के लिए सक्रिय हुई।

डीएपी ने बताया एसपी के नेतृत्व में शिकायत का सत्यापन करने के बाद शुक्रवार को दस सदस्यीय टीम शहडोल पहुंची और पैसे लेते हुए सहायक उपनिरीक्षक को पकड़ कर ट्रेप कर लिया गया है। मामले की कार्यवाही चल रही है। कोतवाली पास एक पान ठेले के पास एकांश सिंह से पैसा लेते हुए सहायक उपनिरीक्षक को पकड़ा गया है। डीएसपी ने बताया कि उनके निरीक्षक जियाउलहक सहित दस सदस्य कार्रवाई में शामिल हैं। इस घटना को लेकर लेनदेन हो रहा था, वह दो दिन पहले ही कोतवाली में दर्ज हुई थी। इसमें एकांश सिंह की कार को जब्त किया गया था। वहीं जिस सहायक उपनिरीक्षक को रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है। वे हाल ही में सिंहपुर थाने से कोतवाली पदस्थ किए गए थे। मामले में कार्रवाई के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close