शहडोल।

कुशाभाऊ ठाक रे जिला अस्पताल में आठ घंटे के अंदर छह बच्चों की मौत के मामले में प्रशासन सख्त हो गया है। जहां अपर संचालक संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं मध्यप्रदेश ने बड़ा फैसला लेते हुए शहडोल के सीएमएचओ पद पर डॉ.ओ पी चौधरी की नियुक्ति कर दी है तो वहीं सिविल सर्जन के तौर पर नेत्र विशेषज्ञ शहडोल डॉ.वी एस बारिया को बैठा दिया है। वहीं गुरूवार को कमिश्नर आर बी प्रजापति ने दोपहर दो बजे अपने कार्यालय में जिला अस्पताल के सभी डॉक्टरों को तलब किया और कहा कि आप लोग पूरी निष्ठा के साथ काम करें जरा भी लापरवाही कार्य में न बरतें।

बुधवार को ही जारी हो गया आदेशः जिला अस्पताल के सिविल सर्जन व सीएमएचओ की पदस्थापना के आदेश 15 जनवरी की शाम को ही जारी कर दिए गए। अपर संचालक सपना एम लोवंशी ने उमरिया सीएमएचओ डॉ.ओमप्रकाश चौधरी को शहडोल सीएमएचओ बनाया है वहीं शहडोल जिला अस्पताल में पदस्थ नेत्र विशेषज्ञ डॉ. वीएस बारिया को जिला अस्पताल का सिविल सर्जन नियुक्त किया है। यह आदेश प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के भोपाल पहुंचने के बाद जारी किया गया। उल्लेखनीय है कि मंत्रीजी जाते जाते डॉ. राजेश पांडेय और डॉ.उमेश नामदेव को कार्यमुक्त करने का आदेश प्रभारी कलेक्टर को दे गए थे।

घिर गए थे शहडोल में सिलावटः गौरतलब है कि स्वास्थ्य मंत्री तुलसी राम सिलावट शहडोल में जब निरीक्षण क रने गए थे तो उसी समय वह मीडिया के सवालों से बुरी तरह घिर गए थे। इसके बाद उन्होंने कहा था कि जल्दी ही कार्यवाही होगी। इसके बाद जब हेलीपेड पर भी मीडिया ने सवाल किया कि इस मामले में आप क्या करने वाले हैं कुछ तो कहिए जिसके बाद उन्होंने तत्काल सिविल सर्जन व सीएमएचओ को कार्यमुक्त कर दिया था। अब फिलहाल नए सीएमएचओ व सिविल सर्जन की पदस्थापना ही कर दी गई है।

कमिश्नर ने बुलाई मीटिंगः गुरूवार को आनन फानन में कमिश्नर आर बी प्रजापति ने जिला अस्पताल के डॉक्टरों की मीटिंग बुलाई और कहा कि आपसी सामंजस्य बनाकर काम करें। मरीजों को बेहतर से बेहतर सेवा देने का प्रयास किया जाए। कमिश्नर ने सिविल सर्जन से कहा कि मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर्स की ड्यूटी लगाकर मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं देने का काम करें। इस बैठक में डॉ. बारिया, डॉ. मुकुंद चतुर्वेदी, डॉ. केएन अहिरवार, डॉ. वसीम, डॉ. रेखा कारखुर, डॉ. सुनील हथगेल, डॉ. ममता जगतपाल और डॉ.पुनीत श्रीवास्तव मौजूद रहे।

जांच समिति देगी अपनी रिपोर्टः प्रभारी कलेक्टर पार्थ जायसवाल ने स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर 15 जनवरी को जांच समिति गठित की है जिसमें के के पांडेय डिप्टी कलेक्टर, मेडिकल कॉलेज के नेत्र रोग विभागाध्यक्ष डॉ. प्राणदा शुक्ला और मेडिकल कॉलेज के सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. नागेंद्र सिंह को रखा गया है। यह कमेटी एक सप्ताह के अंदर बच्चों की मौत के मामले में विस्तृत जांच कर अपनी रिपोर्ट देगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan