Navy Day 2022: रवींद्र वैद्य, शहडोल। एक बार भी मन में यह नहीं आया कि मैं नेशनल डिफेंस एकेडमी यानी एनडीए की प्रवेश परीक्षा को पास नहीं कर पाऊंगा।विशाखापत्तम में कालेज में प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रहा था और साथ ही एनडीए की प्रवेश परीक्षा की तैयारी भी करता रहा। सुबह से लेकर रात तक का पढ़ाई का शेड्यूल तय किया और फिर जुट गया अपने लक्ष्य की ओर।जब एनडीए की परीक्षा निकाल ली तो फिर चार साल तक पूरे अनुशासन और कड़ी मेहनत से पढ़ाई की और आज मैं नौसेना में लेफि्टनेंट के पद पर गोवा जैसी जगह पर पदस्थ होकर देश की सेवा कर रहा हूं।

यह कहना है शहडोल के अभिषेक शर्मा का। नौसेना दिवस पर उन्होंने नईदुनिया से बात कर इस मुकाम तक पहुंचने की कहानी को साझा किया।

परिवार और रिश्तेदारों में कोई नहीं सेना में

अभिषेक बताते हैं कि उनके माता-पिता चाहते थे कि बेटा बड़ा होकर डॉक्टर या इंजीनियर बने लेकिन मेरा मन था कि मैं सेना में जाकर देश की सेवा करूं।जब मैंने एनडीए की प्रवेश परीक्षा पास कर ली तब पापा को बताया कि मेरा सपना क्या है । इसके बाद मुझे माता पिता दोनों का सपोर्ट मिला और आज मैं जो हूं उनके आशीर्वाद से ही हूं।इनका कहना है कि मेरे परिवार और रिश्तेदारों में सिर्फ मैं ही हूं जो सेना में अपनी सेवाएं दे रहा हूं।परिवार का कोई सदस्य सेना में कभी नहीं रहा।

केरला के कोच्चि से की अपनी शुरूआत

अभिषेक बताते हैं तीन साल की पढ़ाई और एक साल की ट्रेनिंग के बाद मुझे सबसे पहले केरल के कोच्चि में पदस्थ किया गया। इसके बाद अब मैं गोवा में हूं। इनका कहना है कि पापा रवि शर्मा ओरियंट पेपर मिल में सिक्योरिटी आफिसर हैं। वालीबाल खेल में रुचि रखने वाले अभिषेक को प्रकृति से बहुत प्यार है। इनका कहना है कि हमें ईश्वर ने सुंदर धरती दी है और हमें इसकी सुरक्षा करना चाहिए।

युवाओं को चाहिए कि सेना में जाएं

अभिषेक ने नौसेना दिवस पर युवाओं को संदेश देते हुए कहा है कि अग्निवीर योजना जो सरकार ने चलाई है वह बहुत ही अच्छी है और युवाओं को चाहिए कि यहां जाकर अपना फिजिकल और अपना आर्थिक पक्ष मजबूत करें और देश की सेवा करें।

इनका कहना है कि दूसरों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहें और इसके पहले खुद को भी हर स्तर पर मजबूत करें। इनका कहना है कि सपने तभी सच होते हैं जब हमारे अंदर उनको पूरा करने का जुनून होता है। लक्ष्य को तय करें और उसे पाने के लिए जी जान लगा दें।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close