शहडोल(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

मकर संक्रांति और लोहड़ी का त्योहार पूरे उत्साह और परंपरागत तरीके से मनाया गया। बुधवार की शाम से देर रात तक जहां लोहड़ी की धूम रही वहीं गुरुवार की सुबह से मकर संक्र ांति का उत्साह नजर आया। इन दोनों त्योहारों का अपना अलग अलग रंग दिखाई दिया। लोहड़ी के पर्व की उमंग बुधवार की शाम गुरुद्वारा और कई जगहों पर नजर आई। शहडोल शहर के वार्ड नंबर सात आशीर्वाद कालोनी में युवाओं ने संगीत की महफिल सजाई जिसमें एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां दी गईं। युवा गायकों ने अपने सुरों का शानदार समां बांध दिया।

पुराने नगमों की सजी महफिलः लोहड़ी पर्व पर आयोजित संगीत की महफिल में शहडोल के युवा म्यूजिशियन वेदांत तिवारी ने अपने शानदार गीतों की प्रस्तुति दी। पुराने नगमों क ी प्रस्तुति देकर वेदांश ने सभी को झूमने पर मजबूर कर दिया। वहीं गायिका विदुषी और आयुषी ने आशा भोसले और लता के गीतों को गाकर पुराने समय की याद को ताजा कर दिया। रवींद्र वैद्य ने किशोर कुमार के गीतों की प्रस्तुति दी। इस कार्यक्रम में धर्मेंद्र तिवारी, राजेश राजपूत, पूजा राजपूत, प्रीति राजपूत, विश्वंभर पांडेय, मुकेश त्रिपाठी और प्रतीषि ने भी सहयोग प्रदान किया। रात 11 बजे तक कार्यक्रम जारी रहा।

गुरुद्वारा में दिखाई दी त्योहार की रौनकः घरौला मौहल्ला स्थित गुरुद्वारा में भी लोहड़ी पर्व की रौनक दिखाई दी। यहां पर शाम को लोहड़ी पर्व मनाने के लिए सिख समाज के सैकड़ों लोग मौजूद रहे। कोरोना के बाबजूद इस पर्व का उत्साह कम नहीं हुआ। आग जलाकर इसमें प्रसाद का समर्पण किया गया। खुशी का यह पर्व सभी ने नए उमंग के साथ मनाया। यहां देर रात तक कार्यक्रम चलते रहे। रात में भंडारे के बाद कार्यक्रम का समापन हुआ।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस