शहडोल(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

कांग्रेस पार्टी ने जिला मुख्यालय के जयस्तंभ चौक में शनिवार को केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह की अगुवाई में जिले भर के कांग्रेसी इस प्रदर्शन में शामिल हुए। संख्या बल अच्छा रहा जिसके चलते कांग्रेसी उत्साहित नजर आए। महिलाओं की संख्या भी विरोध प्रदर्शन में नजर आई। तकरीबन डेढ़ बजे जयस्तंभ चौक में धरना शुरू हुआ और यहां पर नेताओं ने अपनी बयानबाजी की। इसके बाद तकरीबन ढाई बजे कार्यकर्ता जयस्तंभ चौक से कलेक्ट्रेट की ओर कूच कर गए। यहां पर कुछ युवा कार्यकर्ता अपने कांधे पर अर्थी लेकर नारेबाजी भी करते दिखे। कलेक्ट्रेट परिसर में जब पुलिस ने इनको बेरीकेट्स लगाकर अंदर जाने से रोक दिया तो कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नीरज द्विवेदी ने धमकी देते हुए कहा कि कलेक्टर यदि पांच मिनट में बाहर नहीं आती हैं तो हम सब अंदर घुस जाएंगे। जब कलेक्टर नहीं आईं तो कांग्रेस के कुछ युवा नेता और महिला नेत्री बेरीकेट्स को धकियाकर अंदर घुसने का प्रयास करने लगीं पुलिस यह देखकर हड़बड़ा गई और धकियाकर नेताओं को पीछे किया। इस दौरान जिलाध्यक्ष ने अपने साथियों को शांत रहने और हंगामा न करने के लिए भी कहा।

कलेक्ट्रेट गेट पर जलाई अर्थीः कांग्रेस के युवा नेताओं ने कलेक्ट्रेट परिसर में पहले नारे लगाए इसके बाद अर्थी को रखकर को प्रदर्शन किया फिर इसके बाद कलेक्ट्रेट के गेट पर जाकर अर्थी रखकर आग लगा दी। इस बीच पुलिस कुछ न कर पाई हालांकि आग बुझाने के लिए जरूर प्रयत्न किया।

कलेक्ट्रेट में जमकर किया हंगामाः कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जयस्तंभ चौक पर धरना देने के बाद कलेक्ट्रेट परिसर में आकर जमकर हंगामा किया । प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और जिला कलेक्टर बाहर आओ के नारे लगाए । हालांकि एसडीएम ने आ कर ज्ञापन लिया और इसके बाद धरना प्रदर्शन समाप्त हो गया। कार्यकर्ताओं ने बैरिकेट्स तोड़कर कलेक्ट्रेट परिसर में घुसने की कोशिश भी की लेकिन पुलिस ने बलपूर्वक रोक दिया।

इन मुद्दों को लेकर किया गया प्रदर्शन

- कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले परिवारों को तत्काल मुआवजा दिया जाए।

- कांग्रेस की न्याय योजना लागू कर सभी परिवारों को 7500 रुपये महीना दिया जाए।

-तीनों कृषि सुधार कानून तत्काल वापस लिए जाएं।

- डीजल रसोई गैस से एक्साइज ड्यूटी कम कर जनता को राहत दी जाए।

- देश की बेशकीमती संपत्तियों एवं कंपनियों को निजी हाथों में सौंपना बंद करें।

- पेगासस जासूसी मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में कराई जाए।

- सुक्ष्म एवं मध्यम उद्योगों को तत्काल आर्थिक पैकेज दिया जाए।

- महंगाई कम करने के लिए सार्थक कदम उठाए जाएं।

- युवाओं को रोजगार देने के लिए सरकार कार्य योजना बनाए।

- ग्रामीण अंचलों में पर्याप्त बिजली दी जाए जिससे खेती प्रभावित न हो।

इनकी रही मौजूदगीः धरना प्रदर्शन में कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष, जिला महामंत्री, जिले के सभी ब्लॉक अध्यक्ष, युवक कांग्रेस के पदाधिकारी, मजदूर कांग्रेस ,किसान कांग्रेस, शिक्षक कांग्रेस ,भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के कार्यकर्ता, महिला कांग्रेस की टीम और सेवादल के कार्यकर्ता मौजूद रहे। यह धरना प्रदर्शन तकरीबन दो घंटे चला।? ? इस दौरान भारी पुलिस बल तैनात रहा। हंगामे के दौरान कलेक्टर वंदना वैद्य अपने चैंबर में मौजूद थीं लेकिन उन्होंने एसडीएम को ज्ञापन लेने भेजा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local