शहडोल, नईदुनिया प्रतिनिधि। झारखंड में हुए एक नक्सली हमले की जांच में रांची की एनआइए टीम ने गुरुवार को मध्यप्रदेश में दबिश दी। कटनी में एक आरोपित की तलाश करने के बाद एनआइए शाम को शहडोल जिले के ब्यौहारी कस्बे में पहुंची। यहां एनआइए ब्लास्ट में इस्तेमाल हुए विस्फोटक सामग्री और विक्रय करने वाले व्यापारी की तलाश में जुटी रही। गुरुवार देर शाम तक रांची की एनआइए के हाथ ब्यौहारी में खाली रहे। स्थानीय पुलिस की मदद से वो एक पटाखा व्यापारी की तलाश में जगह-जगह छापामारी में जुटे रहे। सूत्रों से मिली पुष्ट जानकारी के मुताबिक एनआइए ने कटनी से एक आरोपित को हिरासत में लिया है। उसने पूछताछ के दौरान बताया है कि आइडी ब्लास्ट में इस्तेमाल होने वाली विस्‍फोटक सामग्री का कुछ हिस्सा उसने ब्यौहारी से भी खरीदा था। जांच के इन्ही बिंदुओं के आधार पर एनआइए की टीम कार्रवाई में जुटी हुई है। एनआइए रांची के एसपी डा. शैलेंद्र मिश्रा ने पत्र लिखकर शहडोल पुलिस से इस संबंध में मदद मांगी थी कि उनकी टीम जब वहां पहुंचे तो स्थानीय पुलिस उन्हें सहायता प्रदान करें। जिसके बाद एनआइए की टीम भरत मीणा के नेतृत्व में शहडोल पहुंची।

24 मार्च को टोकला में हुआ था आइडी ब्लास्ट : झारखंड के रांची जिला अंतर्गत टोकला चाईबासा रेस्ट सिंघबम क्षेत्र में 24 मार्च को एक बम ब्लास्ट हुआ था। जिसमें कई लोगों की मौत हुई थी तो वहीं कई गंभीर रूप से घायल थे। एनआइए की टीम इसी मामले में जांच करते हुए मध्यप्रदेश में दबिश दे रही है।

मध्यप्रदेश से हुई थी विस्फोटक सामग्री की सप्लाई : बताया जा रहा है कि झारखंड में जो बम ब्लास्ट हुआ था उसमें इस्तेमाल की गई विस्‍फोटक सामग्री मध्यप्रदेश से आई थी। इस बात का खुलासा रांची की एनआइए टीम की जांच में हुआ है। कटनी में इस बात का सुराग मिलते ही टीम ब्यौहारी पहुंचकर विस्फोटक सामग्री की बिक्री करने वाले व्यापारी की तलाश में जुट गई है।

देशद्रोह समेत हत्या के मामले है दर्ज : एनआइए की टीम जिस बम ब्लास्ट के सिलसिले में मध्यप्रदेश पहुंची है उसमें आरोपितों के विरुद्ध देशद्रोह जैसे अपराध दर्ज है। इसके अलावा हत्या, हत्या का प्रयास, बलवा, बारूद एक्ट 2008 की धारा समेत अन्य धाराओं के तहत अपराध दर्ज किया है।

……………..

रांची से एनआइए की टीम ब्यौहारी पहुंची है। कटनी में पड़ताल करने के बाद वे ब्यौहारी में किसी मामले की जांच में आए हुए हैं। स्थानीय पुलिस की मदद से एनआइए की टीम अपना काम कर रही है। उसमें हमारा कोई दखल नहीं है।

- डीसी सागर, एडीजीपी, शहडोल जोन

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local