नईदुनिया सरोकार -

आसपास के रहवासी वर्षों से हो रहे परेशान

आगर-मालवा। नईदुनिया न्यूज

सती रोड हाटपुरा में सघन बाजार व बस्ती के बीच स्वास्थ्य विभाग का रिक्त भू-खंड वर्षों से उपयोग रहित पड़ा हुआ है। इसका इस्तेमाल कचरा डालने के लिए किया जाने लगा है। इस वजह से रहवासी परेशान है।

गौरतलब है कि करीब दो हजार वर्ग फीट क्षेत्रफल के इस भूखंड पर आगर में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थापित होने के जमाने में करीब 60 वर्ष पूर्व जच्चा खाने का भवन बनना प्रस्तावित था। प्रसूति गृह की व्यवस्था अस्पताल परिसर में हो जाने के बाद से यहां नर्सिंग स्टाफ रहा करता था। भवन चूना, मिट्टी व लकड़ी के पटाव का बना था। इसकी देखरेख नियमित नहीं होने से यह जर्जर होता गया। इसके चलते यहां रहवास भी बंद हो गया। ऐसे में रोगी कल्याण समिति के प्रस्ताव मुताबिक जीर्ण-शीर्ण हो चुके भवन को डिस्मेंटल करीब 2013 के पूर्व करा दिया गया। तब से लेकर यह भूखंड रिक्त पड़ा है। इस वजह से लोग इसका इस्तेमाल सुविधाघर के रूप में करने लगे। वहीं, मोहल्लो' की सफाई करने वाले कर्मचारी कचरा यहां डाल रहे हैं। इस वजह से मवेशी व सूअरों का जमावड़ा रहता है। रहवासी मयंक कसेरा, हितेश चंदेल आदि ने बताया कि इस वजह से क्षेत्र के लोग परेशान हैं।

हो सकता है बेहतर उपयोग

सघन बाजार के मध्य होने से इस स्थान का बहुउद्देश्यीय उपयोग हो सकता है। करीब 30 फीट फ्रंट साइड है। लंबाई करीब 70 पᆬीट है। ऐसे में करीब 15 दुकानों का शॉपिंग कॉम्प्लेक्स और इसके ऊपर रहवासी क्वार्टर बन सकते हैं। दुकानों से अच्छी खासी आय विभाग को प्राप्त हो सकती है और नर्सिंग स्टॉफ के निवास के लिए करीब 8-10 परिवार यहां रखे जा सकते हैं। 3 अक्टूबर 2015 को तत्कालीन कलेक्टर विनोदकुमार शर्मा ने मौके का अवलोकन कर भूतल पर शॉपिंग कॉम्प्लेक्स व ऊपरी मंजिल पर क्वार्टर के लिए कार्य योजना बनाए जाने के निर्देश भी दिए थे। इसके बाद जल्दी ही कलेक्टर शर्मा का तबादला हो गया और आज तक यह मामला आगे नहीं बढ़ सका।

12एजीआर 11 - आगर में स्वास्थ्य विभाग का रिक्त भूखंड बना हुआ है कचरा घर।