आगर-मालवा, Agar Malwa By Election Result Declare 2020। विधानसभा उपचुनाव में आगर अजा सुरक्षित सीट पर कांग्रेस के विपिन वानखेड़े कश्मकश भरे मुकाबले में जीते। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के मनोज मनोहर ऊंटवाल पर 1998 मतों से जीत दर्ज की। सुबह 8 बजे से मतगणना शुरू हुई। दो-तीन घंटे बाद ही जैसे-जैसे नतीजे सामने आने लगे। वैसे-वैसे कार्यकर्ताओं में कहीं खुशी-कहीं गम के नजारे देखने को मिले। कांग्रेस 1998 के बाद 22 साल के अंतराल से पांचवीं बार यह सीट जीत पाई है। ऐसे में भले ही भाजपा मौजूदा शिवराज सरकार को स्थिर बनाए रखने के लिए बहुमत से अधिक सीटें जीत चुकी है। बावजूद लंबे अंतराल से कांग्रेस की दर्ज हुई जीत पर खुशी का माहौल मतगणना स्थल पर देखने को मिला। यहां हजारों कार्यकर्ता अपने-अपने अंदाज में नारेबाजी के साथ खुशी का इजहार करते रहे।

मतगणना स्थल इस बार शहर से 7 किलोमीटर दूर उज्जैन रोड स्थित पॉलीटेक्निक कॉलेज परिसर में बनाया गया था। ऐसे में वहां कार्यकर्ता वाहनों से ही पहुंचे। परिणाम आने के साथ पूरे 7 किलोमीट मार्ग तक करीब 2-3 घंटे तक पल-पल पर जाम की स्थिति बनती रही। पुलिस को यातायात नियंत्रण के लिए भारी मशक्कत कर मार्ग को डायवर्ट करना पड़ा। वहीं कई वाहनों को कुछ समय के लिए रोकना पड़ा।

मतगणना में शुरू से उतार-चढ़ाव चलता रहने से गणना के 22 राउंड पूरे होने पर कांग्रेस को केवल 886 मतों की बढ़त थी। दो राउंड में कुल 25 मतदान केंद्रों की गणना होनी थी। ये मतदान केंद्र कानड़ नगर व आसपास के थे। ऐसे में अंतिम दो राउंड पर भाजपा व कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं व आम लोगों की नजरें इन दो राउंड की गणना पर टिकी हुई थी। कानड़ उप तहसील एवं कांग्रेस की ब्लॉक कमेटी और भाजपा के मंडल के इन मतदान केंद्रों पर अंतिम समय तक दोनों दल के नेता जीत के दावे करते रहे। इन दोनों राउंड में कांग्रेस को अच्छी बढ़त मिली और जीत का आंकड़ा 886 से बढकर 1998 तक जा पहुंचा।

गौरतलब है कि यह सीट भाजपा का गढ़ मानी जाती है। आजादी के बाद 1995, 1972, 1985, 1998 में ही कांग्रेस को सफलता मिल पाई। शेष सभी 15 चुनाव और 2014 का उपचुनाव भाजपा ही जीतती रही। भाजपा के प्रत्याशी ऊंटवाल के पिता स्व. मनोहर ऊंटवाल 2018 के चुनाव में सांसद रहते हुए विधानसभा आगर का उपचुनाव लड़े थे। प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस की ओर से वर्तमान प्रत्याशी वानखेड़े ने मुकाबला किया था और मात्र 2490 मतों से पराजित हुए थे। ऐसे में 2020 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने फिर से वानखेड़े पर भरोसा जताकर मैदान में उतारा था।

- नतीजे सामने आते ही कहीं खुशी कहीं गम का माहौल

- मतगणना स्थल पर लगा रहा लोगो का हुजूम

- अंतिम दो राउंड तक बरकरार रहा सस्पेंस 1998 के बाद 1998 मतों से जीते विपिन वानखेड़े

जीत के कारण

बूथ मैनेजमेंट, एकजुटता, विपिन वानखेड़े का लगातार सक्रिय रहना और युवाओं की टीम बनाने जैसे जीत के प्रमुख कारण रहे।

1998 के बाद कांग्रेस जीती

आगर विधानसभा उपचुनाव 2020 में कांग्रेस के विपिन वानखेड़े 1998 वोटो से जीते

24 राउंड चली मतगणना

कांग्रेस प्रत्याशी विपिन वानखेड़े को मिले कुल मत- 88,454

भाजपा प्रत्याशी मनोज ऊंटवाल को मिले कुल मत- 86,507

इस प्रकार कांग्रेस प्रत्याशी विपिन वानखेड़े ने अपने निकटतम भाजपा प्रत्याशी मनोज ऊंटवाल को 1947 + 51 ( डाक मत पत्र लीड )= 1998 मतों से हराया ।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस