शाजापुर। सीएम शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने 1500 मेगावाट के आगर, शाजापुर और नीमच सोलर पार्कों का भूमिपूजन एवं ऊर्जा साक्षरता अभियान (ऊषा) का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन कर किया। समारोह में बिजली खरीद और अन्य परियोजना अनुबंध पर हस्ताक्षर एवं दस्तावेज आदान-प्रदान किए गए। इसी समारोह में प्रदेश में उर्जा साक्षरता अभियान की शुरुआत भी अतिथियों द्वारा की गई। केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश आज शिवराज सिंह के नेतृत्व विकास कर रहा है। भाजपा की सरकार ने मध्य प्रदेश के साथ देश में भी ऊर्जा के क्षेत्र मे उन्नति की है। पूरे भारत में 7 वर्ष में 1 लाख 58 हजार मेगावाट बढ़ाया है। हमारी सरकार द्वारा पूरे देश 1 लाख 59 हजार ग्रिड बनाया है। ऊर्जा को देश के हर कोने में पहुच रही है। 987 दिन में हमने हर जिले, गांव में बिजली पहुंचा दी है। बिजली के दाम लगातार कम हो रहा है। सौर ऊर्जा शून्य प्रदूषण वाली ऊर्जा है। 150 लाख मेगावाट रिन्यूअल एनर्जी का कार्य देश में लग चुका है। भाजपा की सरकार में देश अग्रणी है।

फालतू बिजली ना जले इसका इंतजाम करो

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम में संबोधित करते हुए कहा कि 2030 तक भारत 50% बिजली नवकरणीय ऊर्जा के माध्यम से बनाएगा। 21 हजार करोड़ रुपये से लोगों को प्रदेश में सस्ती बिजली दी जा रही है। सीएम ने ऊर्जा साक्षरता अभियान को लेकर अनावश्यक रूप से बिजली का उपयोग नहीं करने के लिए सलाह दी। जितनी जरूरी हो उतनी बिजली जलाएं लेकिन फालतू बिजली ना जले इसका इंतजाम करो। मैं खुद सीएम हाउस में एक भी बल्ब फालतू नहीं चलने देता कई बार मैं खुद बिजली का बल्ब बुझाता हूं। जहां पर आकर्षक रोशनी हो वहां भी बिजली का उपयोग करने से बचे। ऐसा करने से हम प्रदेश में 10-11 या 5-7 हजार करोड़ रुपये बचा सकते हैं। उन्होंने एलइडी बल्ब उपयोग करने की सलाह दी। सीएम ने कहा कि मैं खुद भी बिजली बचाऊंगा और आप सब से भी अपील करता हूं कि बिजली बचाएं और बिजली बचाने का संकल्प लें।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि लाडली बेटी कालेज में एडमिशन लेगी तो 25 हजार अतिरिक्त दिया जाएगा। मध्य प्रदेश में नवाचार किया गया है बेटियों के नाम से प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिलेगा। कोरोना काल के सारे प्रतिबंध हटाया गया है पर दोनों डोज लगाना अनिवार्य है। यह टीका नहीं है जिंदगी का डोज है हमें लगवाने में कोई समस्या नहीं होना चाहिए। एक जमाना था जब बिजली आती कम, जाती ज्यादा थी। उस समय में नारा लगता था जब तक रहेगा दिग्गी जलती रहेगी डिब्बी। 22हजार मेगा वाट की उपलब्धता हमने मध्य प्रदेश की धरती पर बनाकर दिखाइ है। कोयले, हवा, पानी के बाद अब सूर्य से भी बिजली बनेगी। कोयले से बिजली बनाने से पर्यावरण प्रदूषण होता है। आने वाली पीढ़ियों के लिए धरती सुरक्षित रहे इसलिए सौर ऊर्जा आवश्यक है।

पहले बिजली महंगी हुआ करती थी कोयले से भी कम दामो में सौर ऊर्जा बनती है। दिल्ली की मेट्रो बिजली हम मध्य प्रदेश से भिजवा रहे हैं। 5300 मेगावाट बिजली वर्तमान में बना रहे हैं। ओंकारेश्वर बांध के पानी पर सोलर प्लांट बिछाकर हम बिजली बनाएगे। छतरपुर जिले में ऐसी तकनीक से बिजली बनाएंगे जो स्टोर भी हो सके। देश 2030 तक सोर ऊर्जा से 50 प्रतिशत ऊर्जा देगा। 2030 तक भारत कार्बन उत्सर्जन 45 प्रतिशत की कमी लाएगा।

21 हजार करोड़ बिजली पर शासन खर्च करती है। अनावश्यक बिजली को बंद किया जाता है। 21 हजार करोड़ जो राशन खर्च करती है वो आम लोगो का ही पैसा जाता है। फालतू बिजली जलाना बंद करें इसे आदत में लाएं। ऊर्जा साक्षारता अभियान आज से हम प्रारंभ कर रहे है(उषा) में खुद भी बिजली बचाएगा ओर आप भी बचाएंगे आज से संकल्प। गरीबो को मार्च 2022 तक मुफ्त राशन मिलेगा।

सीएम शिवराज और केंद्रीय मंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक

हेलीपैड पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री आरके सिंह की सुरक्षा में चूक का मामला सामने आया है। मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री के आगमन के दौरान सुरक्षा के लिये लगाए गए बेरिकेड्स गिर गए। जिससे यहां अव्यबस्था की स्थिति बनी। बेरिकेड्स गिरने से हेलीपैड में प्रवेश करने वाले लोगों की चैकिंग के लिए लगाया गया। डीएफएमडी (चेकिंग द्वार) भी गिर गया था। ऐसे में कई लोग बिना चेकिंग के ही हेलीपैड के अंदर घुस गए। मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री के हेलीपेड से रवाना होने के बाद यहां तैनात सुरक्षा बलों ने गिरे हुए बेरिकेड्स दोबारा सही खड़े किए और डीएफएमडी गेट भी खड़ा किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local