- 25 मार्च तक लॉकडाउन, घर से बाहर निकलने के लिए लेना होगी अनुमति

- जिले की सीमाएं सील, न बाहर से कोई आएगा और न जिले का कोई दूसरे जिले में जाएगा।

शाजापुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में रविवार शाम से लॉकडाउन कर दिया गया है। देर रात तक इस संबंध कोई आदेश सामने नहीं आए। न ही कि सी जिम्मेदार ने कि सी भी माध्यम से आमजन को इसकी जानकारी दी। आधी रात को नगर पालिका की कचरा गाड़ियों से शहर में अनाउंसमेंट कर बताया गया कि 25 मार्च तक जिले को लॉकडाउन कि या गया है। सोमवार सुबह इसका असर नहीं दिखा और सड़क पर आम दिनों जैसी चहल-पहल दिखाई दी। सोशल मीडिया पर इसे लेकर चर्चाओं का दौर चला। इसके बाद जिम्मेदार सक्रिय हुए और बाजार में पुलिस ने मोर्चा संभाल कर भीड़ को हटाया। इसके बाद दोपहर में सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। हालांकि इसके बावजूद कई लोग सड़क पर घूमते देखे गए।

कलेक्टर डॉ. वीरेंद्र सिंह रावत द्वारा जारी आदेश के अनुसार जिले में लोक स्वास्थ्य एवं लोक हित में नोबेल कोरोना वायरस के संभावित खतरे की रोकथाम के लिए दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिले का लॉकडाउन कि या गया है। इसके तहत जिले की सीमाओं को सील कर दिया गया है। जिले से बाहर कोई न जा सकता है न आ सकता है। सिर्फ आपात सेवाओं के लिए ही छूट रहेगी। जरूरी सेवाओं के लिए ही लोग घरों से बाहर निकल सकेंगे। सरकारी कार्यालयों व शासकीय संस्थानों में कर्मचारियों को घर से ही काम करने का आदेश भी शासन स्तर पर जारी कर दिया गया है। खास बात यह है कि लॉकडाउन का आदेश रविवार शाम पांच बजे से प्रभावी हो गया था, कि ंतु सोमवार दोपहर को इसके पालन के लिए जिम्मेदार सक्रिय हुए। पुलिस वाहनों ने शहर में घूम कर लोगों को इसकी सूचना दी और लोगों से कहा वे अपने घरों में ही रहें।

ये दफ्तर रहेंगे खुले

लॉकडाउन के दौरान अत्यावश्यक सेवा वाले दफ्तर जैसे- राजस्व, स्वास्थ्य, पुलिस, विद्युत, दूरसंचार, नगर पालिका, पंचायत आदि लॉकडाउन से मुक्त रहेंगे। मेडिकल स्टोर्स, फल, सब्जी, हॉस्पिटल बैंकों के एटीएम से कै श लेन-देन, गैस एजेंसी के अलावा सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।

शासकीय व अर्ध शासकीय कार्यालय बंद

लॉकडाउन के दौरान सभी शासकीय व अर्ध शासकीय कार्यालय भी बंद रहेंगे। कलेक्टर द्वारा जारी आदेश में उल्लेख है कि लॉकडाउन के दौरान सभी शासकीय व अर्धशासकीय कार्यालय बंद रहेंगे। बहुत जरूरी होने पर कोई व्यक्ति कु छ समय के लिए घर से बाहर जा सके गा। इसके लिए अपने क्षेत्र के थाने या अन्य सक्षम अधिकारी से लिखित अनुमति लेनी होगी। इसके अलावा लोगों को घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं रहेगी। न जिले की सभी सीमाएं 25 मार्च की रात 12 बजे तक के लिए बंद रहेंगी।

पुलिस ने फटकारी लाठियां

जिले में लॉकडाउन घोषित होने के बावजूद जिला मुख्यालय पर ही मनमाना आलम था। बाजार में दुकानों पर भीड़ दिखाई दे रही थी। सड़कों पर आवागमन जारी था। इसे लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने जिला और पुलिस प्रशासन पर सवाल खड़े कि ए। इसके बाद जिम्मेदार सक्रिय हुए। पुलिस के वाहनों ने सघन पेट्रोलिंग शुरू कर लोगों को घर से बाहर न निकलने की हिदायत दी। दोपहर के समय ट्रैफिक पाइंट पर यातायात थाने के स्टाफ ने दोपहिया वाहनों पर सवार होकर बेवजह सड़क पर घूम रहे लोगों पर पुलिस ने सख्ती कर लाठियां भी फटकारी। पुलिस की सख्ती की जानकारी लगने पर इस क्षेत्र में लोगों की आवाजाही कम हुई।

घरों में रहकर कोरोना से लड़ाई में साथ दें

कोरोना वायरस के खिलाफ जो लड़ाई लड़ी जा रही है, उसमें सभी की भूमिका महत्वपूर्ण हैं। यह लड़ाई लोगों के सहयोग बिना नहीं लड़ी जा सकती। जिले को 25 मार्च तक लॉकडाउन कि या गया है। जरुरी सेवाओं के लिए लोग चिंतित न हों। ये सेवाएं उपलब्ध रहेंगी। सभी जिलेवासी अपने घरों में रहकर कोरोना से लड़ाई में सहयोग करें।

-डॉ. वीरेंद्र सिंह रावत, कलेक्टर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना