शाजापुर। शहर के मध्य स्थिति एमएलबी कन्या स्कूल में बुधवार को छात्राएं बिना मास्क और भीड़ के रुप में दिखी। तस्वीरों को देखकर ऐसा लग रहा है जैसे स्कूल प्रभारी, शिक्षकों और छात्राओं को कोरोना संक्रमण का डर ही नहीं है। यहां छात्राएं बिना मास्क के दिखाई दी तो दो गज की दूरी का भी ध्यान नहीं रखा गया। जबकि जिले में लगातार कोरोना मरीज मिल रहे हैं। शहर के ही अन्य स्कूलों में पहले भी ऐसी ही लापरवाही सामने आ चुकी हैं। जिन पर कलेक्टर द्वारा नाराजगी भी जाहिर की गई। बावजूद जिम्मेदार लापरवाह बने हुए हैं।

नौवीं से बारहवीं कक्षा तक के रिवीजन टेस्ट इन दिनों संचालित हो रहे हैं। इसके लिए विद्यार्थी प्रश्न पत्र लेने, उत्तरपुस्तिका जमा कराने स्कूल पहुंच रहे हैं। इस दौरान कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का जमकर उल्लंघन हो रहा है। गौर करने वाली बात यह है कि शिक्षा विभाग को लोगों को संक्रमण से बचाव के उपायों के प्रति जागरूक करना चाहिए। किंतु जिले में तस्वीर इसके उलट लापरवाह रवैये वाली सामने आ रही है। विभाग के आला अधिकारी भी इस ओर लापरवाह दिखाई दे रहे हैं। टेस्ट 20 नवंबर से शुरू होकर 28 नवंबर तक संचालित होंगे। किंतु इस दौरान शालाओं में बरती जा रही लापरवाही कोरोना संक्रमण को बुलावा दे रही हैं।

सावधानी रखना चाहिए

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सभी को सावधानी रखना चाहिए। स्कूलों में तो खासतौर पर इस ओर ध्यान देना चाहिए। विद्यार्थी अपने स्वजनों को भी इसके लिए प्रेरित करें।

- जूही गर्ग, डिप्टी कलेक्टर एवं कोविड-19 सेल प्रभारी

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस